Delhi : अभिलेखागार में सुधार के लिए 50 करोड़ रुपये के फंड को मंजूरी

0

दिल्ली कैबिनेट ने दिल्ली अभिलेखागार के कामकाज में सुधार के लिए फैसले लिए। कैबिनेट ने दिल्ली अभिलेखागार में भवनों के निर्माण और विकास के लिए 50 करोड़ रुपये के फंड को मंजूरी दी है। दिल्ली सरकार के मुताबिक दिल्ली कला और संस्कृति पारिस्थितिकी को संरक्षित करने और बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है।

2020 में, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सांस्कृतिक परिसर ‘कला कुंज’ की आधारशिला रखी थी। इसका उद्देश्य दिल्ली के नागरिकों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है, जहां वे डिजिटल रूप में ऐतिहासिक दस्तावेजों को देख सकें और संस्कृति कार्यक्रमों में भाग ले सकें। सीड मनी के रूप में दिल्ली पर्यटन परिवहन विकास निगम को दिल्ली अभिलेखागार विभाग के साथ काम्प्लेक्स के निर्माण के लिए 3 करोड़ रुपये की अग्रिम राशि देने को मंजूरी दी गई है।

साथ ही दिल्ली कैबिनेट द्वारा दिल्ली अभिलेखागार विभाग को कोरोना काल के दौरान में हुए नुकसान और अभिलेखों के रखरखाव के लिए दिल्ली सरकार द्वारा 1.32 करोड़ की राशि जारी करने का प्रस्ताव रखा गया था, जिसे कैबिनेट ने मंजूरी प्रदान कर दी है। उल्लेखनीय है कि दिल्ली अभिलेखागार विभाग में दिल्ली सरकार के विभिन्न विभागों के करीब 10 करोड़ पन्नों के अभिलेखों का रखरखाव किया जाता है।

दिल्ली में अभिलेखों के संरक्षण पर आधारित कौशल विकास प्रशिक्षण केन्द्र शुरू किया गया है। दिल्ली सरकार के मुताबिक कुछ सरकारी कार्यालयों में पुराने दस्तावेजों के बंडल बेहद खराब तरीके से रखे मिलते हैं, जबकि कुछ कार्यालयों में काफी अच्छी तरह सहेजकर रखा जाता है। कुछ रचनात्मक अफसरों की पेशेवर कला के कारण यह संभव होता है। उस कला को प्रोफेशनल तरीके से भावी पीढ़ियों तक पहुंचाने के लिए दिल्ली अभिलेखागार में हर तीन माह पर 60 युवाओं को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा।

दिल्ली में गुरुवार को यहीं ‘कला कुंज’ का भी शिलान्यास किया गया। ‘कला कुंज’ में शानदार ऑडियो विजुअल सुविधाओं सहित 500 दर्शक क्षमता वाला अत्याधुनिक सभागार होगा। इसमें अभिलेखागार, कला प्रदर्शनी, पुस्तकालय, कैफे जैसी सुविधाएं भी होंगी। यह दिल्ली के नागरिकों के लिए सांस्कृतिक एवं बौद्धिक गतिविधियों का महत्वपूर्ण केंद्र होगा।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleअफगानिस्तान के पहले ऑनफील्ड टेस्ट अंपायर बने Ahmed Shah Pakhtin
Next articleJasprit Bumrah की शादी की ख़बर हुई वायरल तो युवराज सिंह ने ऐसे कर दिया ट्रोल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here