mother tongue में तकनीकी शिक्षा प्रदान करने के लिए कार्यबल का गठन

0

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मातृभाषा में तकनीकी शिक्षा प्रदान करने के लिए रोडमैप तैयार करने के उद्देश्य से बुधवार को एक कार्यबल का गठन किया है। सचिव, उच्च शिक्षा की अध्यक्षता में बना यह कार्यबल विभिन्न हितधारकों द्वारा दिए गए सुझावों पर विचार कर एक महीने में रिपोर्ट देगा। मातृभाषा में तकनीकी शिक्षा देने के संबंध में उच्च स्तरीय बैठक में केंद्रीय मंत्री ने यह निर्णय लिया। सचिव, उच्च शिक्षा अमित खरे, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) के निदेशक, शिक्षाविद और मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे। बैठक राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन के संबंध में चर्चा और विचार विमर्श के लिए बुलाई गई थी।

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा, “यह बैठक प्रधानमंत्री की इस सोच को हासिल करने की दिशा में कदम है कि विद्यार्थी अपनी मातृभाषा में मेडिकल, इंजीनियरिंग और कानून आदि व्यावसायिक पाठ्यक्रम की पढ़ाई कर सकें।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “किसी भी विद्यार्थी पर कोई भाषा थोपी नहीं जाएगी, लेकिन उनको सक्षम बनाने के प्रावधान जरूर किए जाएंगे। जिससे कोई भी होनहार विद्यार्थी इसलिए तकनीकी शिक्षा से वंचित न रह जाए, क्योंकि वह अंग्रेजी भाषा नहीं जानता था।”

उन्होंने कहा कि सभी हितधारकों द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति -2020 के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए सम्मिलित प्रयास किए जा रहे हैं।

वहीं देश के सबसे प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों में शुमार आईआईटी दिल्ली में प्लेसमेंट सीजन शुरू हो गया है। दिसंबर से मई तक 6 महीने कंपनियों द्वारा पूर्णकालिक हायरिंग के लिए साक्षात्कार आयोजित किए जा रहे हैं। आईआईटी दिल्ली में लगभग 300 से अधिक राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों द्वारा छात्रों को कई क्षेत्रों में 500 से अधिक जॉब प्रोफाइल की पेशकश की गई है।

आईआईटी दिल्ली में इस वर्ष, हायरिंग प्रक्रियाओं को एक आभासी मोड में संचालित किया जा रहा है। अभूतपूर्व वैश्विक स्थिति में भी आईआईटी दिल्ली, भारत में सबसे अधिक रोजगार देने वाला संस्थान है।

आईआईटी दिल्ली में वर्ष 2020 में बेहतरीन जॉब के सबसे अधिक ऑफर देने वाली कंपनियों में कई मल्टीनेशनल कंपनियां शामिल हैं। इसके अलावा जिन कंपनियों ने सबसे अधिक और बेहतरीन जॉब ऑफर आईआईटी दिल्ली के छात्रों को दिए हैं, उनमें माइक्रोसॉफ्ट, इंटेल, गोल्डमैन आदि शामिल हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleKangana Ranaut AND Diljit Dosanjh : सोशल मीडिया पर एक बार फिर कंगना आई सभी के निशाने पर, किसान आन्दोलन को लेकर चर्चा में
Next articleAmitabh Bachchan की ‘मेडे’ को लेकर आया ये बड़ा अपडेट, इस एक्ट्रेस की हुई धमाकेदार एंट्री
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here