मकर संक्रांति के दिन इन 7 बातों का जरूर रखें ध्यान

0
75

जयपुर। मकर संक्रांति का त्योहार इस बार 15 जनवरी के दिन मनाया जा रहा है। मकर संक्राति  के दिन शास्त्रों में माना जाता है कि इस दिन पितामह भीष्म ने सूर्य के उत्तरायण होने पर स्वेच्छा से अपने प्राण त्याग किये थे। इस कारण से मकर संक्रांति के दिन उनका श्राद्ध संस्कार भी हुआ था।

मकर संक्रांति के दिन  तिल, गुड़, चूड़ा-दही, खिचड़ी का त्योहार मनाया जाता है, मकर संक्रांति के दिन  सूर्य धनु राशि के मकर राशि में परिवर्तिन करते हैं। सूर्य के धनु राशि से मकर राशि में पहुंचने को  मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है।

शास्त्रों में मकर संक्रांति के त्योहार में स्नान और दान करने की परंपरा है। मकर संक्रांति के दिन कई जगहों पर पितरों को तिल अर्पण किया जाता है। इस लेख में मकर संक्रांति के दिन इन बातों को ध्यान रखना जरुरी है जिससे इस पर्व को शुभ व मंगलमय बनाया जा सकता है-

  • मकर संक्रांति के दिन सुबह पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए। पवित्र नदी में स्नान करने से पाप का नाश होता है।
  • मकर संक्रांति में पवित्र नहीं में स्नान करने के बाद सूर्य देव की प्रार्थना करनी चाहिए।
  • मकर संक्रांति के दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए जल में तिल अर्पित किया जाता।
  • मकर संक्रांति के दिन स्नान के बाद दान का बहुत महत्व है, इस दिन दान करना शुभ रहता है।
  • मकर संक्रांति के दिन गर्म कपड़े, चावल, दूध दही और खिचड़ी का दान किया जाता है।
  • मकर संक्रांति के दिन घर में तिल और गुड़ के लड्डू बनाए जाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here