मानसून के शुर होते ही इस राज्य के कई सारे लोग बाढ़ की वजह से बेघर हो चुके हैं

भारी बारिश की वजह से लैंड सलाइड की घटना सामने आ रही है, जो कि करीब 17 जगहों पर देखी गई है। 11 लैंड स्लाइड खोवाई ज़िले में, पांच धलाई में और एक गोमती में देखी गई है।

0
829

जयपुर। मानसून का मौसम शुरु हो चुका है और देश भर में बारिश के वजह से काफी सुकून का माहौल बन गया है। क्या किसान और क्या बाकी लोग अच्छी बारिश से सभी खुशहाल दिखाई दे रहे हैं। मानसून पर कई लोगों की उम्मीदें टिकी रहती हैं, जिससे उनको कई सारे फायदे होते हैं।

मानसून लोगों को राहत तो देता ही है, पर साथ साथ में ये लोगों को कई सारे नुकसान बाढ़ की शक्ल में पहुंचा देता है। ऐसे इलाके में जहां नदियों में बारिश की वजह से उफान आ जाती है, बाढ़ से तबाही आ जाती है।

ऐसा ही देखने को मिल रहा है त्रिपुरा में। देश के पूर्वोत्तर राज्यों में से एक त्रिपुरा में इस समय पिछले 24 घंटों से भारी बारिश हो रही है। पिछले 24 घंटे में राज्य में 86 मीमी की बारिश रिकॉर्ड की गई है और मौसम विभाग की मानें तो अगले 24 घंटे में बारिश की वजह से स्थिति और भी भयावह हो सकती है।

अब तक राज्य को भारी बारिश से काफी नुकसान पहुंच चुका है। बारिश की वजह से आई बाढ़ से 2 बच्चों की मौत हो चुकी है, जबकि 3472 परिवार बेघर हो चुके हैं, जबकि 41 घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं।

स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर के मुताबिक दक्षिण के एक ज़िले में एक बच्चे की डूबने से मौत हो गई है। एक और आदमी के दक्षिण ज़िले के ही सबरूम में लापता होने की खबर है, जिसके बारे मे कहा जा रहा है कि वो भी पानी में डूब के बह चुका है।

भारी बारिश की वजह से लैंड सलाइड की घटना सामने आ रही है, जो कि करीब 17 जगहों पर देखी गई है। 11 लैंड स्लाइड खोवाई ज़िले में, पांच धलाई में और एक गोमती में देखी गई है।

त्रिपुरा में अब तक 1 जून के बाद से 275.9 मीमी बारिश रिकॉर्ड की जा चुकी है। इस साल अब तक 979.9 मीमी बारिश हो चुकी है, जबकि अब तक औसतन 574.2 मीमी बारिश ही होनी चाहिये। मौसम विभाग के अनुसार इस साल अब तक औसत से करीब 75 प्रतिशत ज़्यादा बारिश हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here