नारद पुराण: इन बातों के कारण मनुष्य को दुख और गरीबी का करना पड़ता है सामना

0

श्री हरि विष्णु के परम भक्त और पूरी सृष्टि में धर्म, ज्ञान और सूचना का आदान प्रदान करने वाले नारद मुनि ने अपने पुराण, नारद पुराण में व्यक्ति के लिए ऐसे कर्मों और आदतों का जिक्र किया हैं जिनसे मनुष्य निश्चित रूप से दुख को प्राप्त करता हैं और उसे आर्थिक परेशानियों का भी सामना करना पड़ता हैं। यह चीजें ऐसी हैं जो न केवल इस लोक में बल्कि परलोक जाने पर भी मनुष्य को कष्ट देती हैं। तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि वो कौन सी बातें हैं जिनसे मनुष्य को दूर रहना चाहिए, तो आइए जानते हैं।

बता दें कि नारद मुनि का कहना हैं कि सिर में लगाने के बाद बचे हुए तेल को शरीर पर नहीं मलना चाहिए यह दुख का कारण होता हैं यह मृतयु शोक के समान कष्टकारी होता हैं इससे शरीर अशुद्ध होता हैं और धन की बरकत नहीं हो पाती हैं। वही नाखून को चबाना अशुभ लक्षण माना जाता है इससे देवी लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं और मनुष्य बीमार होता हैं बाएं हाथ से गिलास लेकर पानी नहीं पीना चाहिए। वही निर्वस्त्र होकर शयन नहीं करना चाहिए। इससे देवता और पिंतर दोनों ही नाराज हो जाते हैं। वही दिन में नहीं सोना चाहिए। दिन में सोने से घर में धन वैभव की कमी होती हैं। बालों को मुंह में लेना नारद पुराण के मुताबिक अशुभ फलदायी होता हैं इससे न केवल आप रोगी हो सकते हैं बल्कि सुख में भी कमी आ सकती हैं। वही पर पुरुष और स्त्री के साथ संबंध बनाने से बचना चाहिए। इससे लोक परलोक दोनों में कष्ट भोगना पड़ता हैं। शाम के वक्त और सूर्योदय के वक्त सोना नहीं चाहिए। इस समय भगवान और अपने इष्ट देवता का ध्यान करें। शराब और जुए से दूर रहना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here