दुनिया के सबसे बड़े प्लेन ने भरी पहली उड़ान, 17 हजार फीट की ऊंचाई तक पहुंची

0
59

जयपुर। पिछले कई सालों से इंटरनेशल मीडिया में इस बात की खूब चर्चा हो रही थी कि दुनिया की सबसे बड़े प्लेन को तैयार किया जा रहा है। इस विश्व की सबसे बड़े प्लेन का नाम स्ट्रेटोलॉन्च है जिसने अमेरिका के मोजावे रेगिस्तान में पहली उड़ान भरी। इस दो फ्यूजिलेज वाले प्लेन ने 17 हजार फीट की ऊंचाई पर 304 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से करीब ढाई घंटे तक उड़ान भरी।

बता दें कि पंखों के फैलाव के हिसाब से यह दुनिया का सबसे बड़ा विमान है। इस स्ट्रेटोलॉन्च विमान को उड़ाने वाले टेस्ट पायलट इवान थॉमस ने बताया कि, यह उड़ान काफी अच्छी रही। यह वाकई अद्भुत था औऱ जैसी उम्मीद की गई थी प्लेन बिल्कुल उसी तरह उड़ी।

रिपोर्ट के अनुसार, यह प्रोजेक्ट माइक्रोसॉफ्ट फाउंडर पॉल एलन का है। पॉल एलन ने इस प्रोजेक्ट को साल 2011 में शुरु किया था। हालांकी इस प्रोजेक्ट के बीच ही में पॉल एलन का दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से मौत हो गया लेकिन इसके बावजूद यह मिशन प्रोगेस पर रहा। बता दें कि इस प्लेन की कामयाब उड़ान से नासा भी खुश है। नासा में साइंस मिशन डायरेक्टोरेट के थॉमस जुर्बुचेन ने कहा कि ‘ये स्पेस के छोर चक और उससे भी परे जाने जैसा है, काश एलन यह देख पाते।’

माइक्रोसॉफ्ट की इस दुनिया की सबसे सबसे बड़ी प्लेन स्ट्रेटोलॉन्च में 227 टन वजनी रॉकेट या सेटेलाइट को 35000 फुट की ऊंचाई तक ले जाने की क्षमता रखती है। इस विमान का इस्तेमाल नासा के कामों के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाएगा। बता दें कि इस प्लेन से नासा को सैटेलाइट लॉन्च करने के लिए केवल एक रनवे की जरूरत होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here