वित्तमंत्री सीतारमण ने निर्यात व आवासीय क्षेत्र को दिया प्रोत्साहन

0
31

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने देश के आर्थिक विकास को रफ्तार देने के मकसद से निर्यात और अवासीय क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए शनिवार को नए कदमों का ऐलान किया। इसके तहत उन्होंने इन दोनों क्षेत्रों में तेजी लाने के लिए 60,000 करोड़ रुपये खर्च करने की घोषणा की। अर्थव्यवस्था के कई क्षेत्र में मांग नरम रहने और चालू वित्तवर्ष की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर घटकर छह साल के निचले स्तर पांच फीसदी पर आ जाने के बाद सरकार ने यह कदम उठाया है।

सरकार ने जिन कदमों का ऐलान किया है, उनमें निर्यात संवर्धन के लिए कर व शुल्क प्रतिपूर्ति योजना को बढ़ाना, जीएसटी में इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) के लिए पूरी तरह ऑटोमेटेड इलेक्ट्रॉनिक रिफंड, निर्यात के लिए प्राथमिक सेक्टर के कर्ज के मानकों में संशोधन और एक्सपोर्ट क्रेडिट इंश्योरेंस स्कीम (ईसीआईएस) के क्षेत्र में विस्तार शामिल है। निर्यात वित्तपोषण की निगरानी के लिए एक अंतर-मंत्रालयी कार्यसमूह का गठन किया गया है।

वित्तमंत्री ने बताया कि मौजूदा मर्चेटाइज एक्सपोर्ट फ्रॉम इंडिया स्कीम (एमईआईएस) की जगह रीमिशन ऑफ ड्यूटीज फॉर एक्सपोर्ट प्रोडक्ट्स (आरओडीटीईपी) अर्थात निर्यात उत्पादों पर शुल्क में छूट की योजना लाई गई है।

उन्होंने बताया कि आरओडीटीईपी लागू करने से सरकारी खजाने पर 50,000 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा।

आरओडीटीईपी की योजना मौजूदा एमईआईएस की जगह लेगी।

टेक्सटाइल्स (कपड़ा उद्योग) में मौजूदा एमईआईएस की व्यवस्था और आरओएसएल 12 दिसंबर 2019 तक जारी रहेगी। टेक्सटाइल व अन्य क्षेत्र जिन्हें वर्तमान में एमईआईएस पर दो फीसदी प्रोत्साहन मिलता है उनमें एक जनवरी 2020 से आरओडीटीईपी लागू होगी।

वित्तमंत्री ने कहा कि एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (ईसीजीसी) एक्सपोर्ट क्रेडिट इंश्योरेंस सर्विस (ईसीआईएस) में विस्तार करेगा।

इससे निर्यात के लिए कार्यशील पूंजी कर्ज के रूप में देने वाले बैंकों को उच्च बीमा कवर मिलेगा।

उन्होंने कहा कि निर्यात के लिए कर्ज देने की प्राथमिकता क्षेत्र के नियमों का परीक्षण भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा किया जा रहा है और इस संबंध में दिशानिर्देश जल्द ही जारी किया जाएगा।

नए नियम अगर लागू होते हैं तो इससे प्राथमिकता क्षेत्र के तहत एक्सपोर्ट क्रेडिट के तौर पर अतिरिक्त 36,000 करोड़ रुपये से लेकर 68,000 करोड़ रुपये जारी किए जाने की उम्मीद है।

निर्मला ने प्रौद्योगिकी का लाभ उठाकर निर्यात के लिए जहाज पर माल लादने और उतारने के काम में लगने वाले समय में कमी लाने का भी ऐलान किया, जो बोस्टन और शंघाई बंदरगाह के समान होगा।

निर्यात गारंटी और क्रेडिट लागत में कटौती के लिए सरकार 1,700 करोड़ रुपये देगी।

इसके अलावा, हस्तशिल्प कारीगर और हस्तश्ल्पि सहकारी संगठनों को सुविधा प्रदान करने के लिए विशेष व्यवस्था की घोषणा की गई।

निर्मला ने कहा कि भारत मार्च 2020 में देशभर में चार थीम पर आधारित चार स्थानों पर सालाना मेगा शॉपिंग फेस्टिवल का आयोजन करेगा।

देश में आवासी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए वित्तमंत्री ने कई कदमों का ऐलान किया जिसे नौकरियां पैदा करने का बड़ा क्षेत्र माना जाता है।

वित्तमंत्री ने कहा कि आवासीय क्षेत्र के लिए अब ईसीबी (एक्सटर्नल कमर्शियल बोरोइंग) के नियमों को नरम बनाया जाएगा। इसके अलावा, 10 साल की सरकारी प्रतिभूतियों से जोड़कर भवन निर्माण पर ब्याज में कमी लाई जाएगी।

धन के अभाव में अटकी निर्माणाधीन आवासीय परियोजनाओं को पूरा करने के लिए सरकार ने 10,000 करोड़ रुपये का विशेष कोष बनाया है।

सरकार के इस कदम का मकसद मध्यम आय वर्ग के लोगों के मकान के सपने को पूरा करना और सस्ते आवासीय योजनाओं को धन मुहैया करवाना है। मगर, इस कोष से धन उन्हीं परियोजनाओं को पूरा करने के लिए दिया जाएगा जो गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) के अंतर्गत नहीं आते हैं और राष्ट्रीय कंपनी काननू न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) के पास पड़े मामले नहीं हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleड्रीम गर्ल के रिलीज होते ही आयुष्मान को मिली बुरी खबर, जानकर उड़ जाएंगे होश
Next articleविश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप : पंघल और मनीष अगले दौर में
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here