मीडिया के इस तीखे सवाल का करण जौहर ने दिया हैरान करने वाला जवाब

0
64

आज अक्षय कुमार और परिणीति चोपड़ा की जल्द ही रिलीज होने वाली फिल्म केसरी का नया गाना तेरी मिट्टी रिलीज किया गया है। तेरी मिट्टी एक बेहद भावुक कर देने वाला सॉन्ग हैं। इस गाने को अपनी अवाज से सजाया है बी पराक ने। ये गाना उन 21 सिख जवानों की शहादत को नमम करता हैं। इस गाने को सुनने के बाद हम ये कह सकते हैं कि आपके रौंगटे खड़े हो जाएंगे। इस गाने को एक इवेंट में लॉन्च किया गया है जिसमें फिल्म की स्टारकास्ट भी मौजूद थे। इस दौरान अभिनेता अक्षय कुमार ने मीडिया से बात करते हुए कई बाते शेयर की।

अभिनेता अक्षय कुमार ने कहा कि, ‘ये फिल्म करना मेरे लिए चैलेंजिंग नहीं था। एक या सवा साल से कहानी पर रिसर्च हो रहा था। मेकर्स ने सारी रिसर्च की। चैलेंजिंग पार्ट मेकर्स ने किया। ये मूवी मेरे लिए इमोशनल जर्नी रही है। मेरे पिता आर्मी में थे, ये कहानी भी सैनिकों की है, केसरी करते वक्त मुझे फील आती थी। ब्रिटिश सारागढ़ी डे सेलिब्रेट करते हैं, लेकिन हमारे यहां ये कहानी इतिहास के पन्नों में गुम हो गई है।’

‘मैं चाहता हूं कि पैरेंट्स अपने बच्चों को ये मूवी दिखाए, ये सच्ची कहानी है तो इसे देखना चाहिए, ये मूवी बच्चे और यूथ जरूर देखे।’

अक्षय ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि, ‘लास्ट के 15 मिनट में डायरेक्टर ने जो कराया है वो इमोशनल था। उन सीन्स में एक सैनिक मौत के करीब है। उन आखिरी के 35-40 सेकंड में सैनिक क्या सोचता है वो इस गाने ‘तेरी मिट्टी’ में दिखाया गया है। गाने के बोल शानदार हैं। ये मूवी शहीदों के लिए है, इसलिए ‘भारत के वीर’ को डैडिकेट की गई है।’

जब सवाल किया गया कि, उरी-पुलवामा आतंकी हमले से फिल्म को कितना फायदा मिलेगा? तो इस तीखे सवाल का जवाब फिल्ममेकर करण जौहर ने दिया। उन्होंने कहा कि, ‘जब ये मूवी बनाई थी तब ये माहौल नहीं था। ये फिल्म उसी देश की मिट्टी से बनी है, इसका दिल बड़ा है। इसे किसी भी दौर या किसी भी माहौल में रिलीज कर लो, केसरी दर्शकों को पसंद आएगी। ये माहौल की बात नहीं है, कहानी और हिंदुस्तानी होने की बात है।’

अपने लुक पर बात करते हुए अभिनेता अक्षय कुमार ने कहा कि, ‘मेरी पगड़ी सवा या एक किलो की थी। 4-5 किलो की तलवार थी, उस वक्त के सैनिक 20-22 किलो की तलवार पकड़ते थे। जब पगड़ी पहनता था तो अपने आप शान आ जाती थी। रीढ़ की हड्डी सीधी हो जाती थी। आप खुद में गर्व महसूस करते हो, जो सही पगड़ी पहनते हैं वो सीधे खड़े रहते हैं। कई राज्यों का कल्चर है कि जो जिम्मेदार होते हैं उन्हें ही पगड़ी पहनाई जाती है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here