फीफा विश्व कप : आज पेरू से भिड़ेगा आस्ट्रेलिया

0
104

आस्ट्रेलिया 2018 फीफा विश्व कप के ग्रुप स्तर के अपने अंतिम मैच में आज दक्षिण अमेरिकी देश पेरू का सामना करेगी। पेरू पहले ही टूर्नामेंट के 21वें संस्करण से बाहर हो चुकी है। आस्ट्रेलिया के लिए यह मैच किसी परीक्षा से कम नहीं है। यह मैच उसकी नॉक आउट दौर में पहुंचने की आखिरी उम्मीद है। हालांकि, इस मैच में भी आस्ट्रेलिया को कड़ी मेहनत करनी है। डेनमार्क के साथ अंतिम-16 दौर में प्रवेश के संघर्ष में शामिल आस्ट्रेलिया को ग्रुप-सी में खेले जाने वाले आखिरी मैच में बड़े गोल अंतर से जीत हासिल करनी होगी।

आस्ट्रेलिया की टीम ग्रुप-सी में एक अंक के साथ तीसरे स्थान पर है, वहीं डेनमार्क चार अंकों के साथ दूसरे स्थान पर है। आस्ट्रेलिया को पेरू के खिलाफ न केवल जीतना होगा, बल्कि उसके खिलाफ अधिक गोल भी करने होगें। इस जीत से आस्ट्रेलिया चार अंकों के साथ डेनमार्क की बराबरी कर लेगा और गोल के अंतर से नॉक आउट में प्रवेश हासिल कर सकता है।

आस्ट्रेलिया को अपने पहले मैच में फ्रांस से 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था, वहीं डेनमार्क के खिलाफ उसका दूसरा मैच 1-1 से ड्रॉ हुआ था।

ऐसे में देखा जाए, तो आस्ट्रेलिया का अटैक मैचों में अच्छा काम कर रहा है लेकिन उसका डिफेंस प्रतिद्वंद्वी टीम के अटैक को संभाल पाने में कमजोर है।

आस्ट्रेलिया और पेरू का मैच मंगलवार को शाम 7.30 बजे सोचि के फिश्ट स्टेडियम में खेला जाएगा। पेरू के खिलाफ मैच में उसे जीत के लिए अधिक मेहनत की जरूरत नहीं होगी।

पेरू को ग्रुप स्तर पर खेले गए अपने पहले मैच में डेनमार्क के खिलाफ 1-0 से हार का सामना करना पड़ा था और दूसरे मैच में उसे फ्रांस ने इसी स्कोर से हराया था।

विश्व कप के नॉक आउट दौर से बाहर हो चुकी पेरू के लिए यह मैच औपचारिकता मात्र है। उसका लक्ष्य जीत के साथ विश्व कप का समापन करना होगा। इसलिए, आस्ट्रेलिया को अपना अटैक और डिफेंस मजबूत रख इस मैच में उतरना होगा।

टीमें :

पेरू :

गोलकीपर : पेद्रो गालेसे, कार्लोस सासेडा और जोस कावार्लो।

डिफेंडर : एल्डो कोजरे, लुइस एडविनाकुला, मिगुएल अराजुओ, एल्बटरे रोड्रिगेज, क्रिस्टियन रामोस, एंडरसन सेंटामारिया, निल्सन लोयोला, मिगुएल ट्राउको।

मिडफील्डर : रेनाटो टापिया, प्रेडो एक्विनो, योशिमार योतुन, एडिसन फ्लोरेस, पाउलो हुतार्दो, विल्डर काटागेर्ना, क्रिस्टन कुएवा, एंडी पोलो।

फारवर्ड : आंद्रे कारिलो, जेफरसन फारफान, राउल रुइडियाज, पाउलो गुएरेरो।

आस्ट्रेलिया :

गोलकीपर : ब्राड जोन्स, मैथ्यू रेयान, मिशेल लेंगराक, डेनी वुकोविक

फारवर्ड : डेनियल अरजानी, टिम काहिल, एपोस्टोलोस गियानोउ, टोमी जुरिक, मैथ्यू लेकी, जेमी मेक्लेरन, एंड्रयू नबाउट, डिमी पेट्राटोस, निकिता रुकावेत्साया

मिडफील्डर : जोशुआ ब्रिलियांते, जेक्सन इर्विने, मिले जेडिनाक, रोबी क्रुसे, मासिमो लुओंगो, मार्क मिलिगान, एरॉन मूये, जेम्स ट्रोइसी

डिफेंडर : अजीज बेहिक, मिलोस डेगनेक, एलेक्स गेर्सबाक, मैथ्यू जुर्मान, फ्रान कराकिक, जेम्स मेरेडिथ, जोश रिडसन, ट्रेंट सेंसबरी, अलेंक्जेंडर सुसनजार और बेली राइट।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleफीफा विश्वकप 2018ः अर्जेंटीना के लिए आज हर हाल में बड़ी जीत जरुरी
Next articleदिल्ली में आंशिक बदली छाई, धूलभरी आंधी चलने के आसार
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here