फीफा विश्व कप : आज से शुरू हो रहा है फुटबाल का त्योहार

0
246

फुटबाल के सबसे बड़े पर्व फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण की शुरुआत आज से यहां के लुज्निकी स्टेडियम में हो रही है जिसमें 32 टीमें विश्व में फुटबाल का सरताज बनने के लिए जद्दोजहद करेंगी। रूस को पहली बार विश्व कप की मेजबानी मिली है। वह मेजबान के तौर पर ही इस विश्व कप के लिए क्वालीफाई कर पाया है। विश्व कप के पहले मैच में उसे सऊदी अरब से भिड़ना है।

इस विश्व कप में कई दिग्गजों की साख दांव पर है। विश्व फुटबाल के तीन महान खिलाड़ी लियोनेल मेसी, क्रिस्टियानो रोनाल्डो और नेमार जूनियर पर सभी की नजरें हैं। मेसी, रोनाल्डो का यह आखिरी विश्व कप हो सकता है। मेसी अर्जेटीना के कप्तान हैं और तीन बार विश्व कप में हिस्सा ले चुके हैं लेकिन एक भी बार खिताब नहीं जीत पाए। पिछले साल ब्राजील में खेले गए विश्व कप के फाइनल में जर्मनी ने अर्जेटीना को ही मात देकर खिताब जीता था।

रोनाल्डो का भी यही हाल है। उनकी कोशिश भी पुर्तगाल को विश्व विजेता बनाने की होगी। ब्राजील की नजरें नेमार पर हैं।

रूस के 11 शहरों के 12 स्टेडियम में विश्व कप के मैच खेले जाएंगे। इनमें कुछ स्टेडियम को खासतौर पर फीफा विश्व कप के लिए तैयार किया गया है। पहला मैच जिस स्टेडियम में खेला जाएगा, उसी स्टेडियम में फाइनल मैच भी खेला जाएगा।

फीफा विश्व कप में शामिल होने वाली 32 टीमों को आठ ग्रुप में बांटा गया है। इन आठ ग्रुप की शीर्ष दो टीम अंतिम-16 में जगह बनाएंगी। अंतिम-16 दौर नॉकआउट दौर होगा। इसके बाद क्वार्टर फाइनल दौर की शुरुआत होगी। क्वार्टर फाइनल छह जुलाई से शुरू होंगे जो सात जुलाई तक चलेंगे।

10 और 11 जुलाई को सेमीफाइनल मैच खेले जाएंगे। फाइनल मैच 14 जुलाई को खेला जाएगा।

खिताब की प्रबल दावेदारों में स्पेन, ब्राजील, मौजूदा विजेता जर्मनी, फ्रांस, अर्जेटीना के नाम शामिल हैं। विश्व फुटबाल की बड़ी टीम इटली इस विश्व कप के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई।

ब्राजील ने सबसे ज्यादा पांच बार विश्व कप का खिताब अपने नाम किया है। वह 1958, 1962, 1970, 1994 और 2002 में खिताब जीत चुका है। जर्मनी और इटली ने चार-चार बार विश्व कप अपने नाम किया है। उरुग्वे और अर्जेटीना की टीमें दो-दो बार खिताब जीत चुकी हैं। इंग्लैंड, फ्रांस, स्पेन के नाम एक-एक विश्व कप जीत है।

स्पेन, ब्राजील, जर्मनी, फ्रांस, अर्जेटीना के अलावा इंग्लैंड और बेल्जियम को भी मजबूत टीम माना जा रहा है।

आइसलैंड और पनामा की टीम का यह पहला विश्व कप होगा। आइसलैंड को ग्रुप-डी में अर्जेटीना, क्रोएशिया और नाइजीरिया के साथ रखा गया है। पनामा को ग्रुप-जी में बेल्जियम, इंग्लैंड और ट्यूनीशिया के साथ रखा गया है। दोनों के लिए यह इतिहास रचने का मौका है।

विश्व कप के पहले मैच में से कुछ देर पहले होने वाले उद्घाटन समारोह में विश्व के कई दिग्गज कलाकार अपनी प्रस्तुति देंगे। इस सूची में ब्रिटिश के रॉबी विलियम, रूस के आइदा गारिफुलिना के नाम शामिल हैं। ब्राजील के स्टार पेले इस उद्घाटन समारोह में हिस्सा नहीं लेंगे।

अभिनेता-रैपर विल स्मिथ और गायक निकी जैम फीफा विश्व कप-2018 के आधिकारिक गाने ‘लिव इट अप’ से समारोह की शुरुआत करेंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous article‘डेडपूल’ में अपना संगीत चाहते हैं कान्ये वेस्ट
Next articleमुंबई के थिएटर में पद्मावत को लेकर नहीं हो रहा लोगो का जूनून कम, 5 महीने बाद भी वही बेकरारी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here