FIFA WC 2018: इस तरह इतिहास रच देंगे इंग्लैंड कप्तान हैरी केन

फीफा के तहत इंग्लैंड के 24 साल के कप्तान और स्टार खिलाड़ी हैरी केन अपना पहला विश्वकप खेल रहे हैं ।बता दें की एक बार के लिए इस बात पर यकीन नहीं होता कि वाकई हैरी केन अपना पहला विश्वकप खेल रहे हैं ।

0
79

जयपुर (स्पोर्ट्स डेस्क) ।फीफा के तहत इंग्लैंड के 24 साल के कप्तान और स्टार खिलाड़ी हैरी केन अपना पहला विश्वकप खेल रहे हैं ।बता दें की एक बार के लिए इस बात पर यकीन नहीं होता कि वाकई हैरी केन अपना पहला विश्वकप खेल रहे हैं ।

वैसे फीफा विश्वकप के तहत गोल्डन बूट तो डेब्यू सीजन में कई खिलाड़ियों ने जीता है लेकिन इतनी कम उम्र में इतनी परिपक्वता के साथ और किसी ने नहीं । गोल्डन बूट के इतिहास में इस अवार्ड को कोई भी कप्तान अपने नाम नहीं कर पाया है और इस सूची में अब हैरी केना का नाम आ रहा है ।

जो कप्तान के रुप में इंग्लैंड की अगुवाई कर रहे हैं । बता दें इन दोनों वह विश्वकप में सबसे 6 गोल करक इस दौड़ में टॉप पर मौजूद हैं। लेकिन यह बात हर किसी को माननी होगी कि इस खिलाड़ी ने अपने टीम सही से नेतृत्व करके क्वॉर्टर फाइनल राउंड तक पहुंचने में अहम भूमिका निभाई है ।

अब उम्मीदें हैं कि हैरी केन की कप्तानी में यह टीम करीब 52 साल के ख़िताबी सूखे को ख़त्म करेगी। बता दें की 1986 में गैरी लिनेकर ने गोल्डन शू अवार्ड जीता था। उसके बाद 32 साल बात चुके हैं । लेकिन कोई भी इंग्लैंड का खिलाड़ी किसी विश्वकप में सबसे ज्यादा गोल कर गोल्डन बूट जीतने में नाकाम रहा है ।

अब क्या माना जाए कि हैरी केन इतिहास रचने जा रहे हैं। वैसे भी इग्लैंड ने 1990 में अंतिम चार यानि सेमीफाइनल में जगह बनाई । लेकिन क्वॉर्टर फाइनल में स्वीडन का बाहर आगे पहुंच पाएगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here