किसानों को एमएसपी से ऊंचा मिला oilseeds price, महज 3.10 लाख टन हुई सरकारी खरीद

0

चालू फसल वर्ष 2020-21 (जुलाई-जून) के खरीफ सीजन में किसानों को दहलनी व तिलहनी फसलों का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से ऊंचा मिला। यही वजह है कि खरीफ विपणन सीजन में दलहनी व तिलहनी फसलों की सरकारी खरीद महज 3.10 लाख टन हुई है, जबकि केंद्र सरकार ने 30.17 लाख टन खरीद की मंजूरी दी थी। इस प्रकार, तय खरीद लक्ष्य का महज 10.23 फीसदी ही दलहनी व तिलहनी फसलें सरकारी एजेंसियों ने सीधे किसानों से एमएसपी पर खरीदा। ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने बताया कि इस साल उड़द और मूंग का भाव एमएसपी से ऊपर रहा, जबकि सरकारी एजेंसियां एमएसपी पर खरीद करती है, इसलिए किसानों ने सरकारी एजेंसियों के बजाए बाजार में ऊंचे भाव पर अपनी फसल बेची।

तिलहनी फसलों का भाव भी एमएसपी से काफी ऊंचा रहा, जिसके चलते सरकारी खरीद मंद रही। हालांकि इसके विपरी खरीफ सीजन की प्रमुख फसल धान की सरकारी खरीद पिछले साल के मुकाबले 14.52 फीसदी ज्यादा हो चुकी है।

केंद्रीय उपभोक्ता मामले खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, देशभर में धान की खरीद चार मार्च तक 670.44 लाख टन हो चुकी है, जबकि पिछले साल इसी अवधि के दौरान सरकारी एजेंसियों ने धान की खरीद 585.41 लाख टन की थी।

मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, धान की यह खरीद पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड, तमिलनाडु, चंडीगढ़, जम्मू और कश्मीर, केरल, गुजरात, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, झारखंड, असम, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा से की गई है और कुल खरीद में पंजाब की हिस्सेदारी 202.82 लाख टन है, यानी कुल खरीद का 30.25 फीसदी है।

मंत्रालय ने बताया कि करीब 97.90 लाख किसानों को अब तक खरीदी गई धान के लिए एमएसपी के रूप में 1,26,580.51 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना, गुजरात, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान और आंध्र प्रदेश से खरीफ विपणन सत्र 2020-21 एवं रबी विपणन सत्र 2021 के लिए मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस) के तहत 94 लाख 39 हजार मीट्रिक टन दलहन और तिलहन की खरीद को भी मंजूरी प्रदान की गई है।

आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल राज्यों से 1.23 लाख मीट्रिक टन खोपरा (बारहमासी फसल) की खरीद के लिए भी स्वीकृति दी गई है।

इसी तरह से 5,089 मीट्रिक टन खोपरा (बारहमासी फसल) की खरीद कर्नाटक और तमिलनाडु राज्यों से की गई है, जिससे 3,961 किसानों को लाभान्वित हुए हैं और उन्हें एमएसपी के रूप में 52 करोड़ 40 लाख रुपये का भुगतान किया गया है।

वहीं, चार मार्च तक पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और कर्नाटक 18,97,002 किसानों से 91,80,412 गांठ कपास की सरकारी खरीद की गई है, जिसके लिए उन्हें एमएसपी के तौर पर 26,716.31 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleBengal Election 2021: चुनाव से पहले ममता दीदी को एक और झटका, विधायक सोनाली BJP में होंगी शामिल….
Next articleIND vs ENG:टेस्ट सीरीज में 32 विकेट चटकाकर Ashwin ने अनोखा रिकॉर्ड किया अपने नाम
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here