फेसबुक ने कश्मीर पर पाकिस्तान प्रसारण निगम की लाइव स्ट्रीमिंग पर रोक लगाई

0

फेसबुक ने जम्मू एवं कश्मीर से संबंधित न्यूज बुलेटिन के लिए पाकिस्तान प्रसारण निगम (पीबीसी) की लाइव स्ट्रीमिंग पर रोक लगा दी है। यूट्यूब पर हालांकि रेडियो पाकिस्तान के बुलेटिनों की लाइव स्ट्रीमिंग जारी रखने के लिए अस्थायी व्यवस्था की गई है। यह जानकारी डॉन न्यूज ने रेडियो पाकिस्तान के हवाले से दी।

रेडियो पाकिस्तान ने अपनी रिपोर्ट में सोशल-मीडिया दिग्गज फेसबुक से प्राप्त पूर्व चेतावनी संदेशों के स्क्रीनशॉट शामिल किए हैं, जिसमें सार्वजनिक प्रसारक को खतरनाक व्यक्तियों और संगठनों पर मानकों के उल्लंघन पर चेतावनी दी गई है।

ये पोस्ट विशेष रूप से जुलाई में हिजबुल मुजाहिदीन के नेता बुरहान वानी की पुण्यतिथि और मई में इसके कमांडर जाकिर मूसा की मौत के बाद लगाए गए कर्फ्यू के बारे में समाचारों से संबंधित थे। इस्लामाबाद में सोमवार को सूचना एवं प्रसारण मामलों की प्रधानमंत्री की सहायक फिरदौस आशिक अवान ने कहा कि पाकिस्तान को अधिक आत्मनिर्भर बनने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया प्लेटफार्मो से दूरी बनानी होगी।

कश्मीर के बारे में उन्होंने कहा, “जैसा कि हमने देखा है, हर बार जब हम सोशल मीडिया प्लेटफार्मो पर मानवाधिकारों के हनन को उजागर करने की कोशिश करते हैं तो अकाउंट बंद कर दिए जाते हैं, जैसे कि फेसबुक।”

उन्होंने कहा, “हमने पहले भी इसके खिलाफ आवाज उठाई है और भविष्य में फिर से ऐसा करेंगे और उन अकाउंट्स को फिर से बहाल करेंगे।”

फेसबुक ने 2016 में वानी की मौत से संबंधित दर्जनों पोस्ट्स को सेंसर किया। कश्मीर घाटी के बारे में पोस्ट करने के लिए फोटो व वीडियो के अलावा शिक्षाविदों व पत्रकारों के अकाउंट्स और साथ ही स्थानीय अखबारों के पूरे पेज हटा दिए गए थे।

फेसबुक द्वारा नवंबर में जारी की गई हालिया पारदर्शिता रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी से जुलाई 2019 के बीच विश्वस्तर पर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म प्रतिबंध की गई कुल 17807 सामग्री (कंटेंट) में से 31 फीसदी पाकिस्तान से थी।

फेसबुक ने 2019 की पहली छमाही के दौरान पाकिस्तान की कुल 5690 सामग्रियों पर प्रतिबंध लगाया। वहीं इससे पहले 2018 की दूसरी छमाही के दौरान पाकिस्तान की 4174 सामग्री पर प्रतिबंध लगाया गया था।

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा जम्मू एवं कश्मीर में जब भी किसी अलगाववादी नेता पर बड़ी कार्रवाई की जाती है तो पाकिस्तान की ओर से वहां के विभिन्न स्थानीय समाचार माध्यमों से लेकर सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट की जाती रही हैं। भारत सरकार की ओर से पांच अगस्त को जम्मू एवं कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद-370 को रद्द करने के बाद भी पाकिस्तान में सच्चाई से परे व उकसाने वाली पोस्ट की गई। यही कारण है कि फेसबुक कंपनी पड़ोसी देश की इस स्वार्थी रणनीति पर कार्रवाई कर रही है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articledecade 2019 :- इस दशक की बड़ी स्वास्थ्य चिंताएँ
Next articleछत्तिसगढ : मुख्यमंत्री ने राज्यभर में अलाव जलाने के निर्देश दिए
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here