पार्किंसन में घर पर व्यायाम करना दवाओं का सेवन करने से ज्यादा बेहतर देता है परिणाम

पार्किंसन बीमारी यह वह बीमारी है जिसमें व्यक्ति को अस्थिर रहने की परेशानी हो जाती है । हाथ पैरों का धुजना और साथ ही चेहरे पर भी इसका प्र्भावा नजर आता है ।

0
27

 

जयपुर । पार्किंसन बीमारी यह वह बीमारी है जिसमें व्यक्ति को अस्थिर रहने की परेशानी हो जाती है । हाथ पैरों का धुजना और साथ ही चेहरे पर भी इसका प्र्भावा नजर आता है । पार्किंसन की बीमारी में रोगी को एक पेपर तक उठाने तक में  परेशानी का अनुभव होता है ।

ऐसे में जो भी इस बीमारी से ग्रसित होते ऐन उनको ज़्यादातर दवाओं का सेवन करने की जा ही सलाह हाल दी जाती है । ऐसी स्थिति में रोगी का मनोबल टूट जाता है और वह कभी भी इस बीमारी से निकाल नही पाता है । ऐसा करना ही उनकी परेशानी का कारण बन जाता है की वह कभी ठीक ही नही हो पाते हैं ।

पर अब किसी को ऐसा करने की जरूरत नही है । जी हाँ हाल ही मे इस बात पर स्टडी की पार्किंसन बीमारी से ग्रसित लोगों को दावा के सिवा कोई और चीज़  भी ठीक कर सकती है । वह भी बहुत आसानी से और बहुत ही जल्द । पार्किंसन बीमारी में दवाओं से ज्यादा घर पर किया गया व्यायाम ज्यादा गुणकारी साबित होता है ।

यदि कोई व्यक्ति घर पर  ही लगातार नियमित रूप से व्यायाम करना पार्किंसन बीमारी में मात्र 6 महीने में ही काफी हट तक ठीक कर सकता है  । यानि 6 महीने तक लगातार व्यायाम करने से इस बीमारी में कुछ बेहतरी होने की संभावना है । वनीशपत दवाओं के सेवन से ।

इस बात को साबित करने के लिए एक सतड़ी की गई जिसमें लोगों को दो भागों में बाटा गया जिसमें एक को रोजाना व्यायाम करवाया गया और एक समूह को दवाओं का सेवन करवाया गया । इसमें पाया गया की जिन लोगों ने लगातार व्यायाम किया उनमे बेहतरी की उम्मीद पाई गई और दवाओ के सेवन वालों में यह उम्मीद बहुत ही कम थी ।

 

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here