सैनेटाइजर का अधिक इस्तेमाल घातक, कोरोना वायरस के संक्रमण का रहता खतरा

0

जयपुर।आज विश्व में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है।विश्व में अब तक 58 लाख से अधिक लोग कोरोना संक्रमित पाएं गए है और 3 लाख 60 हजार से अधिक लोगो की मौत हो चुकी है।वहीं अभी तक इस वायरस के संक्रमण को रोकने वाली वैक्सीन नही बनाई जा सकी है।ऐसे में सोशल डिस्टेंशिंग और पर्सनल हाइजीन ही इससे बचाव का उपाय है।

अपने चेहरे पर मास्क का इस्तेमाल और हाथों को लगातार साबुन या एल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर से धोकर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव किया जा सकता है।

लेकिन सैनिटाइजर का अधिक इस्तेमाल खतरनाक भी हो सकता है।हमारे शरीर में अच्छे और बुरे दोनों तरह के बैक्टीरिया पाए जाते है और सैनिटाइजर के अधिक इस्तेमाल से बुरे बैक्टीरिया के साथ ही अच्छे बैक्टीरिया भी नष्ट हो जाते है।जिससे हमारे शरीर में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

वहीं, सैनिटाइजर हमारे मिट्टी लगे हाथों के कीटाणुओं को दूर नही कर सकता है।इसके अलावा सैनिटाइजर का बार—बार इस्तेमाल करने से बैक्टीरिया समय के साथ प्रतिरोधी हो जाते है और हम जितना ज्यादा हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करते है, उतने ही कीटाणु अल्कोहल के प्रति सहनशील होकर हमारे शरीर को बीमारी कर सकते है

इसलिए सैनेटाइजर का इस्तेमाल तब ही करें जब आपके पास साबुन और पानी से हाथ धोने का विकल्प ना रहें।हाल ही किए गए एक शोध में बताया गया है कि हाथों को पानी और साबुन से धोना ही बेहतर है।आप अपने हाथों को साबुन और पानी से करीब 20 सेंकड तक धोएं।इससे कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा कम रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here