बिहार चुनाव:हम तो चाहेंगे,आबादी के हिसाब से हो आरक्षण का प्रावधान:नीतीश कुमार

0

बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान हो चुके हैं। दूसरे चरण की वोटिंग से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आरक्षण को लेकर बड़ा दांव खेला है।
वाल्मीकिनगर में एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने गुरुवार को कहा कि जनगणना के आंकड़े उपलब्ध होने के बाद इसे लागू किया जा सकता है।

नीतीश कुमार ने कहा कि चंपारण से हमने न्याय यात्रा शुरू की और हर यात्रा की शुरुआत इसी धरती से करते रहे हैं। केंद्र में रहते थारूओं को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिया और समाज के उत्थान के लिए हरसंभव कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनगणना के बाद जनसंख्या के आधार पर आरक्षण के हम पक्षधर हैं। जहां तक जनसंख्या का सवाल है तो वह जनगणना के बाद ही तय किया जाता है। यह निर्णय हमारे हाथ में नहीं है जनगणना वाला। हम लोग ये चाहेंगे कि जितनी आबादी है उस हिसाब से उन लोगों को रिजर्वेशन का प्रावधान होना चाहिए। इसके बारे में कहीं कोई दो राय हम लोगों के मन में नहीं है।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, मुझे वोट की चिंता नहीं है। आपने पहले काम करने का मौका दिया तब काफी काम किया। फिर काम करने का मौका मिला तो फिर आपके बीच आएंगे, आपके साथ बैठेंगे और कोई समस्या शेष रह गई हो तो उसका समाधान करेंगे।

सीएम ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनते हुए पूर्वी चंपारण के छौड़ादानो, पश्चिम चंपारण के हडनाटांड़ व सिकटा में चुनावी सभा में कहा कि 15 साल में बिहार का बजट 23 हजार करोड़ से बढ़कर लगभग ढाई लाख करोड़ हो गया। राज्य के 80 फीसदी लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के अलावा हर घर को बिजली व हर गांव को पक्की नली-गली से जोड़ने का कार्य एनडीए सरकार ने किया है।

बता दें कि वाल्मीकिनगर लोकसभा सीट 7 नवंबर को उपचुनाव के लिए वोट पड़ेंगे। यहां से जदयू सांसद बैद्यनाथ महतो की मृत्यु के कारण उपचुनाव हो रहे हैं।
जदयू ने इस सीट से दिवंगत वैद्यनाथ महतो के बेटे सुनील कुमार को उम्मीदवार बनाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here