भाजपा में 15 दिसंबर तक प्रदेश अध्यक्षों का पूरा होगा चुनाव, नियुक्त हुए पर्यवेक्षक

0

सब कुछ तय समय के मुताबिक हुआ तो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को अधिकांश राज्यों में 15 दिसंबर तक नए प्रदेश अध्यक्ष मिल जाएंगे। कुछ राज्यों में मौजूदा प्रदेश अध्यक्षों को दोबारा मौका दिया जा सकता है। भाजपा ने सभी राज्यों में प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव के लिए दो-दो वरिष्ठ नेताओं की नियुक्ति की है। संगठन चुनाव के लिए राष्ट्रीय महासचिवों से लेकर केंद्रीय मंत्रियों की ड्यूटी लगाई गई है।

भाजपा ने उत्तर प्रदेश में अध्यक्ष के चुनाव के लिए राष्ट्रीय महासचिव भूपेंद्र यादव तथा बिहार के मंत्री मंडल पांडेय को पर्यवेक्षक बनाया है। इसी तरह उत्तराखंड में शिवराज सिंह चौहान व केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय महासचिव पी मुरलीघर राव व केंद्रीय राज्य मंत्री किरन रिजीजू, तमिलनाडु में राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी को पार्टी ने पर्यवेक्षक नियुक्त किया है।

महाराष्ट्र के लिए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर और केंद्रीय राज्य मंत्री मनसुख भाई मंडाविया, राजस्थान में केंद्रीय राज्य मंत्री नित्यनांद राय और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत जय पांडा, गुजरात में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद व राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह, आंध्र प्रदेश में केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह व बिहार के मंत्री मंडल पांडेय को पर्यवेक्षक बनाया गया है। छत्तीसगढ़ के लिए भूपेंद्र यादव और केशव प्रसाद मौर्य, जम्मू-कश्मीर में केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और राष्ट्रीय मंत्री तरुण चुग, कर्नाटक में राष्ट्रीय महासचिव राम माधव और केंद्रीय राज्य मंत्री श्रीपद यसो नाइक को जिम्मेदारी मिली है।

हरियाणा में प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव के लिए केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना को जिम्मेदारी मिली है।

झारखंड में चल रहे असेंबली इलेक्शन के कारण अभी प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा।

अधिकांश राज्यों में 15 दिसंबर तक पार्टी नए प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव कर लेना चाहती है। जिन राज्यों में बूथ, मंडल और जिला स्तर पर कमेटियों का चुनाव देरी से हुआ है, वहां प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव में अधिक समय लग सकता है। हालांकि दिसंबर खत्म होने तक सभी स्तर पर संगठन के पदाधिकारियों का चुनाव हो जाने की बात कही जा रही।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleपूर्व वित्तमंत्री चिदंबरम 106 दिन बाद रिहा
Next articleद्रमुक ने तमिलनाडु के 16 मुद्दों पर प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here