हरियाणा-महाराष्ट्र में चुनाव प्रचार खत्म, मतदान सोमवार को

0
198

हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा के चुनाव प्रचार का शोर शनिवार की शाम छह बजे थम गया। प्रचार के लिए बाहर से आए नेता भी इस राज्य से रवाना होने लगे हैं। भाजपा और कांग्रेस ने दोनों राज्यों में दिल्ली सहित अन्य प्रदेशों के तमाम नेताओं को प्रचार अभियान में लगाया था। अब 21 अक्टूबर को मतदान के दौरान प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद होगी, वहीं 24 अक्टूबर को ईवीएम खुलने के साथ उनके भाग्य का फैसला होगा। हरियाणा में 90 और महाराष्ट्र में कुल 288 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव होने जा रहा है।

हरियाणा और महाराष्ट्र में प्रचार के आखिरी दिन शनिवार को भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणाबाद के ऐलनाबाद और रेवाड़ी में दो अतिरिक्त रैलियां कर बची कोर-कसर पूरी करने की कोशिश की। वहीं गृहमंत्री अमित शाह महाराष्ट्र में रैलियां कर माहौल बनाने में जुटे रहे। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आखिरी दिन मुंबई में रहने वाले हिमाचल प्रदेश के लोगों को खासतौर से संबोधित किया।

महाराष्ट्र में कुल वोटर और प्रत्याशी :

महाराष्ट्र में 288 विधानसभा सीटों के चुनाव में 89,722,019 मतदाता हैं। इनके लिए 96,661 मतदान केंद्रों की व्यवस्था है। यहां कुल 3,237 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं, जिसमें निर्दलियों की संख्या 1400 है। बसपा 262 सीटों पर व भाजपा 164 सीटों पर लड़ रही है। हालांकि भाजपा के चिह्न् पर 14 गठबंधन उम्मीदवार भी लड़ रहे हैं। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी 16 और मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी आठ सीटों पर लड़ रही है।

इसी तरह कांग्रेस 147, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना 101 और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) 121 सीटों पर लड़ रही है। शिवसेना 124 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। 3001 पुरुष और 235 महिला उम्मीदवार मैदान में हैं।

हरियाणा में कुल वोटर और प्रत्याशी :

हरियाणा में कुल मतदाताओं की संख्या 18,282,570 है। हरियाणा की 90 सीटों पर कुल 1169 प्रत्याशी हैं, जिसमें महिलाओं की संख्या 104 है। सभी 90 सीटों पर भाजपा और कांग्रेस चुनाव लड़ रही है, जबकि बसपा 87 और इनेलो 81 सीटों पर चुनाव मैदान में है। भाकपा चार और माकपा सात सीटों पर लड़ रही है, वहीं निर्दलीय उम्मीदवारों की संख्या 434 है। कुल 19,578 मतदान केंद्रों पर 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleराकांपा विधायक के सहयोगी के घर से 53.4 लाख रुपये बरामद, आईटी करेगी जांच
Next articleकरतारपुर साहिब और श्रद्धालुओं के बीच दूरी खत्म होने वाली है : प्रधानमंत्री मोदी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here