बुजुर्ग मां ने की पाक जेल से बेटे की रिहाई की मांग, Supreme court ने केंद्र से मांगा जवाब

0

एक मां पिछले 23 साल से अपने बेटे की एक झलक पाने के लिए एक अंतहीन लड़ाई लड़ रही है। इस 81 साल की बुजुर्ग मां का कहना है कि उसका बेटा, जो एक भारतीय सैनिक है, वह पाकिस्तान की जेल में बंद है। मां का दावा है कि वह गुजरात में कच्छ के रण में भारत-पाकिस्तान सीमा से लापता हो गया था। 81 वर्षीय कमला भट्टाचार्जी ने पाकिस्तान के लाहौर में कोट लखपत सेंट्रल जेल से अपने बेटे कैप्टन संजीत भट्टाचार्जी के प्रत्यावर्तन के लिए तत्काल और आवश्यक कदम उठाने के लिए केंद्र से निर्देश देने को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है।

इस दुखी मां का कहना है कि वह फिलहाल अकेली ही यह लड़ाई लड़ रही है, क्योंकि उसने पिछले साल नवंबर में अपने पति को खो दिया था और उनके पति की अपने बेटे की एक झलक पाने की इच्छा भी अधूरी ही रह गई।

याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता का बेटा यानी कैप्टन संजीत भट्टाचार्जी 19 अप्रैल 1997 से अपने ड्यूटी समय के दौरान कच्छ गुजरात और पाकिस्तान के रण में संयुक्त सीमा पर रात के समय अन्य सदस्यों के साथ गश्त के लिए निकला था। हालांकि, अगले दिन यानी 20 अप्रैल, 1997 को याचिकाकर्ता के बेटे और पलटन के एक अन्य सदस्य लांस नायक राम बहादुर थापा के बिना पलटन के केवल 15 सदस्य वापस आ पाए थे। यह निर्धारित किया गया था कि याचिकाकर्ता का बेटा और दूसरा व्यक्ति गश्त के समय संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गए।

याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता को रेडियो इंटरसेप्ट की एक प्रति मिली है, जिसमें पुष्टि की गई है कि याचिकाकर्ता के बेटे को पाकिस्तान रेंजर्स ने पकड़ लिया था और उसके बाद उसे पाकिस्तान सेना को सौंप दिया गया था।

2004 में, याचिकाकर्ता के परिवार को रक्षा मंत्रालय से एक पत्र मिला, जिसमें उन्होंने बताया कि याचिकाकर्ता के बेटे को मृत घोषित कर दिया गया है। यह साक्ष्य 107 और 108 एविडेंस एक्ट द्वारा शासित मौत के अनुमान का परिणाम था, जो सात साल से लापता एक व्यक्ति के लिए मृत्यु की अनुमति देता है।

याचिका में कहा गया है, “यह प्रस्तुत किया गया है कि समय बीतने के साथ-साथ याचिकाकर्ता के परिवार का विश्वास भी कम होने लगा। हालांकि एक दिन याचिकाकर्ता को अपने बेटे के ठिकाने से संबंधित एक महत्वूपूर्ण जानकारी मिली, जिसमें उन्हें सूचित किया गया था कि उनके बेटे को कोट लखपत जेल में कैद में रखा गया है, जिसे सेंट्रल जेल लाहौर, पाकिस्तान भी कहा जाता है।”

याचिकाकर्ता ने तुरंत रक्षा मंत्रालय से आगे की जानकारी निकालने का अनुरोध किया। हालांकि, उन्हें एक प्रतिक्रिया मिली कि इस मामले में कोई ताजा घटनाक्रम दर्ज नहीं किया गया है।

वकील सौरभ मिश्रा के माध्यम से दायर याचिका में यह भी कहा गया है कि याचिकाकर्ता के लिए परिणाम-उन्मुख खोज करने में लापरवाही बरती गई है।

न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना और वी. रामासुब्रमण्यन के साथ ही प्रधान न्यायाधीश एस. ए. बोबडे की पीठ ने शुक्रवार को इस मामले की संक्षिप्त सुनवाई के बाद विदेश मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के सचिव को नोटिस जारी किया।

पीठ ने याचिकाकर्ता के वकील से ऐसे सभी समान रूप से रखे गए सेना के जवानों की सूची बनाने को कहा, जो लापता हो गए और उनका पता नहीं लगाया जा सका।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleJanaki jayanti 2021: समस्त तीर्थों के दर्शन जितना फल प्रदान करता है सीता अष्टमी व्रत
Next articleअपने Facebook प्रोफाइल को सुरक्षित रखना चाहते हैं? यहां दिए गए सुझावों का पालन करें
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here