ED ने डीसीएचएल की 122 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की

0

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले में डेक्कन क्रॉनिकल होल्डिंग्स लिमिटेड (डीसीएचएल) के पूर्व प्रवर्तकों (प्रमोटर) पर बड़ी कार्रवाई करते हुए उनकी 122 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है। एजेंसी ने 8,180 करोड़ रुपये के बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले की जांच के संबंध में पीएमएलए के तहत कार्रवाई में प्रमोटर टी. वेंकटराम रेड्डी और टी. विनायकराय रेड्डी की संपत्ति कुर्क की है।

ईडी ने एक बयान में कहा कि एजेंसी ने ऋण धोखाधड़ी मामले में धनशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत कुल 122.15 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति कुर्क की है।

बयान में कहा गया है कि कुर्क की गई संपत्ति डीसीएचएल और रेड्डी बंधुओं की है और उनके द्वारा बेनामी कंपनी बनाई गई है।

ईडी ने कहा कि कुर्क संपत्तियों में नई दिल्ली, हैदराबाद, गुरुग्राम, चेन्नई, बैंगलोर आदि जगहों पर स्थित 14 संपत्तियां शामिल हैं।

कुर्क की गई संपत्ति एनसीएलटी प्रक्रिया के तहत शामिल नहीं हैं।

ईडी ने 2015 में डीसीएचएल और उसके प्रबंधन के खिलाफ सीबीआई, बीएस एंड एफएसी, बेंगलुरू द्वारा दायर छह एफआईआर और इसी आरोप पत्र (चार्जशीट) के आधार पर मामला दर्ज किया था।

इसने कहा कि सीसीएस पुलिस द्वारा एक और आरोप पत्र दायर किया गया था और डीसीएचएल के खिलाफ सेबी द्वारा भी एक मुकदमा दायर किया गया था।

डीसीएचएल और उसके प्रवर्तकों द्वारा किए गए कुल ऋण धोखाधड़ी का अनुमान लगभग 8,180 करोड़ रुपये लगाया गया है।

एजेंसी ने दावा किया कि डीसीएचल वर्तमान में सीआईआरपी प्रक्रिया के तहत है, जिसमें एनसीएलटी की ओर से केवल 400 करोड़ रुपये की एक संकल्प योजना को मंजूरी दी गई है।

एजेंसी ने कहा, “जांच से पता चला है कि डीसीएचएल के तीन प्रमोटरों, जैसे पी. के. अय्यर, टी. वेंकटराम रेड्डी और टी. विनायकराय रेड्डी ने एक सुनियोजित साजिश रची और कंपनी की बैलेंस शीट में हेरफेर करके मुनाफा-विज्ञापन राजस्व में वृद्धि की।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleहोम लोन फेस्टिव ऑफर: SBI, HDFC और अन्य बैंकों के नवीनतम ऑफ़र देखें
Next articleखगोलविदों ने एंड्रोमेडा गैलेक्सी में अत्यधिक धातु-कमी वाले ग्लोबुलर क्लस्टर का पता लगाया
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here