भारत के लोगों की वायु प्रदूषण के कारण घट जाती है इतनी उम्र

0
52

जयपुर। पर्यावरण में फैल रहा प्रदूषण लोगों की मुसिबत का दिन—ब—दिन बड़ा कारण बनता जा रहा है। इन्हीं में से वायु प्रदूषण भी एक भयंकर समस्या बनता जा रहा है।

हाल ही में अध्ययन के बाद वैज्ञानिकों ने खुलासा किया है कि वायु प्रदूषण से होने वाली घातक ​बीमारियों के कारण भारत के लोगों में अनुमानित जीवन काल की औसत आयु में 2.6 साल की कमी देखी गई है। यह एक गंभीर समस्या मानी जा रही है।

इसके बारे में सेंटर फॉर साइंस ऐंड इनवायरन्मेंट ने कहा है कि वायु प्रदूषण बाहर ही नहीं घर में भी बढ़ता ही जा रहा है। एक अन्य अध्ययन में बताया गया है कि भारत में लोगों की 2.6 साल उम्र कम होने का मतलब है कि भारत इस मामले में दुनिया के अन्य देशों से आगे बढ़ता जा रहा है।

रिपोर्ट के अनुसार खुलासा हुआ है कि दुनियाभर में वायु प्रदूषण से लोगों की उम्र में 20 महिने कमी पायी गई है। वायु प्रदूषण के बारे में हाल ही में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि साल 2014 में खराब वायु की गुणवत्ता 300 दिन तक रहती थी।

जो घटकर अब 206 दिन ही हो गई है। शोध में खुलासा किया है कि बाहरी पीएम तत्वों की वजह से जीवन जीने की अवधि डेढ़ साल तक कम हो जाती है। जबकि ये आंतरिक तत्वों की वजह से 1 साल 2 महिेने कम हो जाती है। एक रिपोर्ट के अनुसार वायु प्रदूषण भारत में स्वास्थ्य संबंधी सभी खतरों में मौत का अब तीसरा सबसे बड़ा कारण हो गया है। इसका कारण बाहरी पार्टिकुलेट मैटर 2.5 ओजोन और घर के अंदर के वायु प्रदूषण का माना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here