दुबई टेस्ट : ख्वाजा, पेन, हेड ने आस्ट्रेलिया को हार से बचाया

0
76

सलामी बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा (141) की बेहतरीन शतकीय पारी के अलावा, ट्रेविस हेड (72) और कप्तान टिम पेन (नाबाद 61) की संघर्षपूर्ण पारियों के दम पर आस्ट्रेलिया ने दुबई अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए पहले टेस्ट मैच पाकिस्तान से जीत छीनते हुए मैच ड्रॉ करा दिया। पाकिस्तान ने चौथी पारी में आस्ट्रेलिया के सामने 462 रनों का विशाल लक्ष्य रखा था। आस्ट्रलिया ने पांचवें और आखिरी दिन गुरुवार को अपनी दूसरी पारी में आठ ओवरों में 362 रन बनाते हुए मैच को ड्रॉ करा दिया।

आस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत तीन विकेट के नुकसान पर 136 रनों के साथ की थी। लग रहा था कि पाकिस्तानी गेंदबाज पांचवें दिन आस्ट्रेलिया के बाकी के सात विकेट ले सीरीज में 1-0 की बढ़त ले लेंगे, लेकिन पहले दिन 50 के स्कोर पर नाबाद रहने वाले ख्वाजा और उनके साथ लौटने वाले हेड ने पाकिस्तानी गेंदबाजों की उम्मीद को नेस्तेनाबूद कर दिया।

इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए 132 रनों की साझेदारी की। 175 गेंद खेलकर पांच चौके मारने वाले हेड 219 के कुल स्कोर पर मोहम्मद हफीज की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए। पदार्पण कर रहे मार्नस लाबुसचांजे सिर्भ 13 रनों का योगदान देकर 252 के कुल स्कोर पर पवेलियन लौट लिए।

यहां लगा कि आस्ट्रेलिया दम तोड़ देगी, लेकिन ख्वाजा को कप्तान का साथ मिला। दोनों ने मिलकर टीम का स्कोर 300 के पार पहुंचा दिया। इसी बीच यासिर शाह ने ख्वाजा को पवेलियन भेज पाकिस्तान की जीत की उम्मीदों को जिंदा किया। ख्वाजा 331 के कुल स्कोर पर आस्ट्रेलिया के छठे विकेट के रूप में आउट हुए। उन्होंने अपनी जुझारू पारी में 302 गेंदों का सामना करते हुए 11 चौकों की मदद से शतकीय पारी खेली।

मिशेल स्टार्क (1) भी 333 के कुल स्कोर पर आउट हो गए जिससे मैच में रोमांच आ गया लेकिन कप्तान पेन ने 34 गेंदों में नाबाद पांच रन बनाने वाले नाथन लॉयन की के साथ मिलकर पाकिस्तान को जीत के मुहाने से निराश लौटने का दर्द दिया।

पेन ने अपनी नाबाद पारी में 194 गेंदें खेलीं और सिर्फ पांच चौके लगाए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleIND vs WI: शार्दुल ठाकुर का डेब्यू बना खास, टीम इंडिया ने भी 5 साल बाद किया कुछ ऐसा
Next articleविराट, रोहित और धोनी की कप्तानी पर युजवेंद्र चहल ने दी प्रतिक्रिया, इन्हें बताया सर्वश्रेष्ठ कप्तान
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here