दान उत्सव 2 से 8 अक्टूबर तक, 15 करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद

0
90

भारत में दान महोत्सव की दसवीं सालगिरह का आयोजन 2 से 8 अक्टूबर के बीच किया जाएगा। यह महोत्सव भारत में परोपकारिता के लिए सबसे बड़ा मंच है जिसमें एनजीओ, कॉरपोरेट, स्कूल, कॉलेज, समुदाय और सेलेब्रिटीज हिस्सा लेंगे। इस साल इस जन सहयोग अभियान के माध्यम से 15 करोड़ रुपये जुटाए जाने की उम्मीद है। इस मंच के माध्यम से कंपनियों के सीएक्सओ से लेकर गृहिणियां, सब्जी विक्रेताओं से लेकर डिजाइनर, स्कूली बच्चों से लेकर कंपनियों के कर्मचारी- सभी लोग समाज कल्याण के लिए अपने समय, कौशल एवं धन का दान देंगे। महोत्सव के 2017 संस्करण में देश भर के 200 शहरों, नगरों और गांवों से 60 लाख लोगों ने हिस्सा लिया था।

महोत्सव के दसवें संस्करण के दौरान बड़े पैमाने पर कई रोचक गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। मुंबई में 2000 से अधिक स्वयंसेवी 6 अक्टूबर को बीएमसी स्कूलों के बच्चों के लिए आर्ट पाठशाला का संचालन करेंगे, उन्हें पेपर बैग बनाना सिखाएंगे और पर्यावरण के बारे में जागरूकता फैलाने का प्रयास करेंगे।

चेन्नई में हजारों नागरिक 2 अक्टूबर को स्वच्छता कर्मियों के लिए ‘थैंक्यू’ मील का आयोजन करेंगे। बेंगलुरू में सप्ताह के दौरान शहर के विभिन्न हिस्सों में 100 खेल के मैदान स्थापित किए जाएंगे। दिल्ली में पुस्तक दान अभियान का आयोजिन किया जाएगा। कोलकाता में पुजोर जामा के तहत हजारों नए कपड़े जरूरतमंद बच्चों को दान में दिए जाएंगे।

इस दौरान न केवल देश के बड़े महानगरों बल्कि छोटे शहरों एवं नगरों में भी कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जैसे पश्चिम में तिलोनिया एवं असागाओ, पूर्व में त्रिपुरा के विभिन्न भागों, उत्तर में नैनीताल तथा छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावी क्षेत्रों में भी विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। उड़ीसा के गांवों में सेवा महोत्सवों की एक श्रृंखला आयोजित की जाएगी जिसमें हजारों ग्रामीण बढ़चढ़ कर हिस्सा लेंगे।

देश भर के 20 शहरों में गूंज रुदान उत्सव की बसें शहर भर में यात्रा करेंगी और उन्हें कपड़े, स्टेशेनरी, खिलौने एवं अन्य सामग्री दान में देने के लिए प्रोत्साहित करेंगी।

इस साल इस जन सहयोग अभियान के माध्यम से 15 करोड़ रुपये जुटाए जाने की उम्मीद है। डानामोजो, स्मॉल चेंजेज, गिव नाओ, डोनाटेकार्ट, लेट्सचेंज, ग्लोबल गिविंग जैसे प्लेटफॉर्म्स भी इस अभियान में योगदान देंगे। एनपीसीआई, यूपीआई के माध्यम से 500 से अधिक एनजीओ तथा लैम हेयर ऐप 8700 से अधिक गैर लाभ संगठनों को इस पहल में शामिल करेगा।

महोत्सव के दसवें संस्करण के लिए विशेष लोगो होगा। रैपर बिग डील उर्फ़ समीर मोहंती ने स्पेशल रुदान उत्सव रैप तैयार किया है, जबकि लखनऊ से अमन शाहपुरी ने एक खूबसूरत गीत तैयार किया है।

दान देना और चीजों को किसी के साथ बांटना एक अनूठी खुशी का अहसास देता है- तो आइए दान उत्सव के माध्यम से इसी खुशी का अनुभव प्राप्त करें। गली में बैठे एक भूखे बच्चे को सैण्डविच देना या झुग्गियों के बच्चों के पढ़ाना उनके जीवन में खास बदलाव ला सकता है। समाज के वंचित एवं जरूरतमंद लोगों के जीवन में यही बदलाव लाने के लिए इस पहल की शुरूआत की गई है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleपोटरेनिक्स ने लान्च किया वायरलेस स्पीकर ‘वाईब’, जानिए इसके बारे में !
Next articleछत्तीसगढ़ : 4 महिलाओं सहित 8 नक्सलियों ने किया समर्पण
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here