क्या आप जानते हैं पुरूषों के ये अधिकार, जो आपको बचाते है महिलाओं की प्रताड़ना से, पुरूष जरूर पढे

0
62

जयपुर, अक्सर पुरूषों पर महिलाएं घरेलू हिंसा का केस लगाती है। ये हम अब तक कई बार सुन चुके हैं। साथ कई लोग ऐसे भी है जो घरेलू हिंसा के चलते जेल की हवा खा रहे हैं। लेकिन महिलाओं के साथ साथ भारतीय संविधान ने पुरूषों को भी कई सारे अधिकार दिए है। जिनके बारे में बहुत सारे पुरूष नहीं जानते है। इन अधिकारों के तहत महिलाओं को उम्र कैद तक की सजा का भी प्रावधान हैImage result for पुरूषों को भी है ये अधिकार

दोस्तों हिंदू विवाह अधिनियम के सेक्शन 13बी में पुरूष को तलाक लेने के आधार बताए गए है। जो पति – पत्नी दोनों पर ही समान तरीके से लागू होते हैं। अगर कोई महिला अपने  पति को प्रताड़ित करती है तो वह इन आधारो पर तलाक का आवेदन कर सकता है। अगर पत्नी आरोपी साबित होती है तो उस पर आईपीसी की धाराओं के तहत केस दर्ज होता है। यदि पति पत्नी दोनों मे से कोई किसी को खतरनाक हथियार से वार करके क्षति पहुंचाता है उसे अपराध माना जाता है। जिसमे आरोपी पर आईपीसी की धारा 324 के तहत कार्रवाई की जाती है।Image result for पति पर हमला करना

इस श्रेणीं मे दांतों से काटना, किसी धारदार हथियार से हमला करना, किसी जीव-जंतु से कटवाना आदि आते है। इस केस में  आरोप साबित होनें पर आरोपी को तीन वर्ष तक की सजा का प्रावधान किया गया है। साथ ही अगर दोनों में से कोई किसी धारदार हथियार से हमला करता है और किसी एक को चोट आती है तो उसे धारा 325 के तहत आरोपी माना जाता है। जिसमे आरोपी साबित होनें पर सात  साल तक की सजा का प्रावधान किया गया है।Image result for पति पर हमला करना

वहीं अगर किसी तरह की विस्फोटक सामग्री से किसी एक को नकुसान पहुंचाया जाता है तो उसे धारा 326 के तहत आरोपी माना जाता है। जिसमे करीब दस साल की सजा का प्रावधान है। वहीं अगर दोनों मे से किसी को एक चांटा मारता है तो इस मामले मे धारा 322 के तहत मामला दर्ज कराया जा सकता है। जो समान रूप से दोनों पर लागू होता है। लेकिन हमारे समाज में बहुत कम होता है कि कोई पुरूष महिला के खिलाफ मामला दर्ज कराता हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here