क्या आप जानते हैं, तीन बार बिक चुका है आगरा का ताजमहल !

0
50

आप सभी ने ताजमहल के बारे में तो सुना ही होगा और कई लोगों ने इसे देखा भी होगा लेकिन क्या आप इस बात को जानते हैं कि कोई शख्स ऐसा था जिसने ताजमहल को बेच दिया था। जी हां, एक बार नहीं बल्कि ये तीन बार बिक चुका हैं । आपको बता दें कि, बिहार के सीवान के रहने वाले ठग नटवरलाल ने ताजमहल को तीन बार बेचा था । उसने लाल किले को दो बार और एक बार राष्ट्रपति भवन को भी बेच दिया था । नटवरलाल का असली नाम मिथलेश कुमार श्रीवास्तव था, वह ठगी के 100 से अधिक मामलों में आरोपी था और आठ राज्यों की पुलिस उसके पीछे पडी हुई थी । अलग-अलग मामलों में उसे 100 साल से अधिक की सजा हुई थी । आपको जानकर हैरानी होगी कि, भारत के सबसे बड़े ठग नटवरलाल को आखिरी बार साल 1996 में नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर देखा गया था उस समय वो तीन पुलिसवालों को चकमा देकर भाग गया था ।

 


SHARE
Previous articleटैरो राशिफल 16 अक्टूबर 2019: जानिए आपके लिए कैसा रहेगा आज का दिन
Next articleओप्पो ए11 स्मार्टफोन को लाँच किया, जानें इसके बारे में
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here