धोनी की ‘आक्रमकता’ का मेरे ऊपर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है : Thapa

0

भारतीय फुटबाल टीम के खिलाड़ी अनिरुद्ध थापा ने कहा है कि भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की आक्रामकता का उनके ऊपर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। थापा ने एआईएफएफ टीवी से बात करते हुए कहा, “धोनी का जो स्टाइल है उसके कारण मैं उन्हें देखना पसंद करता हूं। उनकी आक्रामकता- मुझे वो काफी पसंद है। इसने मेरे खेल पर प्रभाव डाला है, फुटबाल ऐसा खेल है जहां आपको मजबूत और आक्रामक होना होता है।”

उन्होंने कहा, “उनको इस तरह के पावरफुल हिट्स और बड़े छक्के मारते देखना- इसका मेरे ऊपर प्रभाव पड़ा है।”

इसी अगस्त में धोनी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से अपने संन्यास की घोषणा कर दी थी। थापा हालांकि शनिवार से शुरू हो रहे आईपीएल में उन्हें खेलता देखने के लिए तैयार हैं।

थापा ने कहा, “जब मैंने संन्यास की खबरों को सुना, मैं जाहिर तौर पर काफी दुखी था क्योंकि मैं उनका बड़ा प्रशंसक हूं। उम्मीद है कि मैं आईपीएल में उन्हें खेलता देख सकूं।”

धोनी इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) टीम चेन्नइयन एफसी के सह-मालिक हैं और थापा भी इसी टीम के सदस्य हैं। थापा ने बताया है कि धोनी किस तरह से खिलाड़ियों से बात करते हैं।

उन्होंने कहा, “धोनी काफी विनम्र हैं। वह एक शानदार इंसान हैं और हमेशा हमें प्रेरित करते रहते हैं और अपना अनुभव साझा करते रहते हैं। टीम के लंच पर वह आपके पास आकर बात करते हैं। उनके अनुभव से सीखना हमारे लिए शानदार बात है।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleकश्मीर में सक्रिय जेईम आतंकियों के हाथों लगी NATO army की एम 4 राइफल
Next articleजीने-मरने की इस लड़ाई में दूसरों को तवज्जो देना हिम्मत की बात :Kaif
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here