fire department के नए नोटिस से परेशान दिल्ली के होटल कारोबारी

0

देशभर के होटल और टूरिज्म कारोबारी जहां कोरोना के कारण उत्पन्न हुई मंदी की मार झेल रहे हैं। वहीं दिल्ली के होटल कारोबारी भी खासे परेशान हैं। दिल्ली के होटल कारोबारी अग्निशमन विभाग के एक अनापत्ति प्रमाण पत्र के चलते होटल सील किए जाने की चिंता से ग्रस्त हैं। दरअसल होटल में अग्निशमन के इंतजामों को लेकर दिल्ली का दमकल विभाग इन दिनों दिल्ली के होटलों को नोटिस जारी कर रहा है। अग्निशमन विभाग के अनापत्ति प्रमाण पत्र के तहत होटलों में आग से बचाव के इंतजाम न करने पर नोटिस जारी कर रहा है।

दिल्ली के होटल कारोबारियों के मुताबिक इस कोरोना में जहां कारोबार पहले से ही बिल्कुल ठप पड़ा है, ऐसी स्थिति में 8-10 लाख रुपये के खर्च से सुरक्षा के इंतजाम करना मुश्किल हो रहा है। होटल कारोबारी इस बात से हैरान हैं कि जिन होटलों के पास पहले से एनओसी है। अब उन्हें भी नोटिस दिया जा रहा है। होटलों को ये नोटिस नगर निगम के माध्यम से भेजे जा रहे हैं।

दिल्ली होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप खंडेलवाल ने कहा, “दिल्ली में करीब 90 फीसदी होटल इस नए आदेश के दायरे में हैं। दिल्ली में करीब 3000 हजार बजट होटल हैं। लॉकडाउन और दिल्ली में कोरोना की स्थिति के कारण होटल आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं। उधर अग्निशमन विभाग द्वारा भेजे नोटिस से होटल मालिकों के लिए स्थिति और अधिक विकट हो गई है। हमने इस मामले में प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर हस्तक्षेप करने की मांग की है।”

होटल व्यवसाय से जुड़े संस्था के प्रतिनिधियों ने कहा, “इससे पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली सरकार ने आश्वस्त किया था कि 15 मीटर तक की ऊंचाई तक वाले छोटे बजट वाले होटलों को, अग्निशमन विभाग के नए कानून से राहत मिलेगी। हालांकि अब सभी होटलों को यह नोटिस भेजा जा रहा है।”

होटल व्यवसायियों के मुताबिक तय किए गए मानकों के अनुरूप होटलों को मोनो आक्साइड डिक्टेट, स्प्रिंकल व फायर चेक डोर अनिवार्य रूप से लगाना होगा, जो काफी महंगे हैं। इनका खर्च तकरीबन 10 लाख रुपये तक है। साथ ही उतनी जगह का न होना और तोड़फोड़ की अलग दिक्कतें हैं। क्योंकि कई होटल काफी पुराने हैं।

करोल बाग के एक होटल कारोबारी दीपेश अग्रवाल ने कहा कि, “हमारे होटलों के लिए जो सख्त नियम तय किए गए हैं, वैसे नियम देश के किसी अन्य शहर के होटलों के लिए नहीं हैं।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleChanakya niti: चाणक्य की इन बातों का रखें खास ध्यान, पति पत्नी के रिश्ते होंगे मजबूत
Next articleAditya Narayan Wedding LIVE: अपनी शादी में खुलकर ढोल नगाड़े पर डांस करते हुए नजर आए आदित्य नारायण, देखें वीडियो
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here