दिल्ली हिंसा : सरेराह चाकू, तलवारें लहराते रहे उपद्रवी

0

उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद इलाके में महिला प्रदर्शनकारी मुख्य सड़क के बीचोबीच धरना दे रही हैं। यह धरना नागरिकता संशोधन कानून यानी सीएए की मुखालफत करने के लिए आयोजित किया गया है। धरना स्थल से महज कुछ ही कदमों की दूरी पर जाफराबाद इलाके में ही हजारों की तादाद में हथियारबंद युवा सड़क के दोनों ओर खड़े देखे जा सकते हैं। जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के ठीक सामने वाले रोड पर मौजूद इन हजारों युवाओं के हाथों में लोहे की रॉड, चाकू, तलवारें और सरिया था। इनमें से कई युवाओं ने नो सीएए, नो एनआरसी लिखी पटिया भी अपने माथे पर पहन रखी थी। हाथों में खुलेआम चाकू लहराते हुए कम उम्र के कई नौजवान जाफराबाद में चल रहे सीएए विरोधी धरने में भी दिखाई दिए।

आईएएनएस के 2 संवाददाताओं ने मंगलवार को जाफराबाद की इस अंदरूनी सड़क का पूरा मुआयना किया। इस सड़क पर मौजूद कई महिलाएं भी लोहे के सरिए थामी खड़ी रही दिखीं। चूंकि यह मार्ग मुख्य सड़क मार्ग से हटकर एक रिहायशी बस्ती के अंदर है इसलिए यहां बाहर के अधिक लोगों की आवाजाही नहीं है।

हाथों में हथियार लिए यह लोग जाफराबाद थाने से महज कुछ ही दूरी पर मौजूद थे। पूछे जाने पर पुलिस ने कहा कि सोमवार रात इनमें से कई उपद्रवियों ने थाने का ही घेराव कल डाला था। दिन भर हथियारों की नुमाइश के बाद शाम होते होते होते इन हथियारबंद लोगों को खदेड़ने के लिए भारी पुलिस बल व अर्थ सैनिक बलों के जवान यहां पहुंचे। उपद्रवियों को तितर-बितर करने के लिए यहां लाठीचार्ज किया गया।

उधर गोंडा चौक के समीप मौजूद कई दुकानों में उपद्रवियों ने लूटपाट की। यहां नारेबाजी करते हुए ये उपद्रवी एक के बाद एक कई दुकानों में ताला तोड़कर जबरन दाखिल हुए। इसके बाद दुकानों में रखा सामान लूट लिया गया। कई दुकानों में रखा कीमती सामान बीच सड़क पर फेंक दिया गया या फिर तोड़ गया।

घंटों तक मौजपुर और जाफराबाद की सड़कों पर उपद्रवी तांडव मचाते रहे। यहां से गुजर रहे लोगों के साथ भी इन लोगों ने मारपीट की। कई जगहों पर मोटरसाइकिल जलाने के साथ ही उनपर सवार व्यक्तियों को भी पीटा गया। स्थिति बेकाबू होने पर दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर आलोक कुमार बड़ी तादाद में पुलिस बल लेकर घटनास्थल पर पहुंचे दिल्ली पुलिस के अलावा बाद में यहां अर्धसैनिक बलों और रैपिड एक्शन फोर्स की भी तैनाती की गई। मौके पर पहुंचे पुलिस बल ने यहां तुरंत लाठीचार्ज करके भीड़ को तितर-बितर किया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous article‘बाहुबली’ स्टार प्रभास की नई फिल्म की घोषणा –अश्र्विन नाग करेंगे निर्देशन
Next articleहोलाष्टक के आठों दिन, जानिए क्यों नहीं होता मांगलिक कार्य
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here