खत्म की जा सकेगी HIV / AIDS जैसी जानलेवा बीमारी :- रिसर्च

एचआईवी क नाम सुनते ही लोग बहुत असहज हो जाते हैं लोगों के मन में एचआईवी को लेयकर कई तेरह की गलत धारनाएं है जिसका कारना है की लोगों को इसी सही जानकारी नहीं है ।

0
81

 

जयपुर । एचआईवी क नाम सुनते ही लोग बहुत असहज हो जाते हैं लोगों के मन में एचआईवी को लेयकर कई तेरह की गलत धारनाएं है जिसका कारना है की लोगों को इसी सही जानकारी नहीं है । कई कई लोग तो ऐसे भी हैं जिनको यह लगता है की एचआईवी साथ खाना खाने से भी फैलता है हाथ मिलाने से फैलता है । एचआईवी का वायरस सर्दी जुकाम का वायरस नही है जो ऐसे ही फैल जाये और ना ही यह सिर्फ़ एक कारण की वजह से फैलता है ।

एचआईवी का वायरस संक्रमित खून चढ़ने से संक्रमित सुई से और आइयसे कई कारणों से फैल सकता है जहां पर वार्स के आदान प्रदान का रास्ता बन रहा हो । अब तक इस बीमारी को ला इलाज़ बीमारी का नाम दिया जाता था पर शायद अब ऐसा नही होगा । वैज्ञानिकों का दावा है की जल्द ही इस बीमारी का पूरी तरह इलाज़ किया जा सकेगा ।

अमेरिकन जीन टेक्नोलॉजीज का मानना है कि एक जीन थेरेपी के माध्यम से एचआईवी-एड्स का इलाज संभव है। कंपनी ने यह बात इस दिशा में अपना शोध कार्य पूरा करते हुए और एक फाइनल रिपोर्ट एफडीए को सौंपते हुए कही। विशेषज्ञों का मानना है कि इस ड्रग्स के माध्यम से एचआईवी को जड़ से खत्म किया जा सकता है।

कंपनी का दावा है कि उन्होंने एचआईवी के इलाज के लिए संभावित इलाज को खोज निकाला है। साथ ही इस संबंध में 1 हजार पेज से अधिक की फाइनल रिपोर्ट यूएस फूड ऐंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) को सौंप दी है। इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि जिस ड्रग्स से एचआईवी का इलाज संभव है, उसकी एक डोज का असर मरीज की स्थिति को बेहतर करने में कारगर है। यानी एक डोज के बाद ही पेशंट की कंडीशन में सुधार को नोटिस किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here