महाराष्ट्र में एसआई को कुचलकर भागे 10 गुर्गे छत्तीसगढ़ में पकड़ाए

0
579

महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले में नागभीड़ थाना के उपनिरीक्षक (एसआई) छत्रपति किशनराव को कार से कुचल कर फरार हुए शराब माफिया के 10 गुर्गो को शुक्रवार की रात छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले की लोदाम पुलिस ने नाकाबंदी कर गिरफ्तार कर लिया। शराब माफिया के इन गुर्गो में एक नाबालिग सहित दो छत्तीसगढ़ के बदमाश भी शामिल हैं।

महाराष्ट्र पुलिस की सूचना के बाद सरगुजा के महानिरीक्षक (आईजी) दीपांशु गुप्ता ने जशपुर के एस.पी. प्रशांत ठाकुर को सभी तरफ कड़ी नाकेबंदी करने के निर्देश दिए थे। इस सूचना पर झारखंड और ओड़िशा की सीमा पर पुलिस ने वाहनों की सघन जांच शुरू कर दी थी।

झारखंड सरहद पर स्थित लोदाम थाना प्रभारी अरविंद मिश्रा ने पुलिस की टीम के साथ जब महारष्ट्र की कार (एमएच 42 वी 9095) की जांच की तो इसमें सवार युवकों पर संदेह हुआ। पुलिस की टीम ने इस वाहन में सवार विकेश मुके, चांद खान पठान, सज्जाद शेख, निकेश, छगन मेश्राम, परवेज शेख, यश, दीपक, प्रसन्नजीत हलधर व नानटू हलधर को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो इन सभी ने गुनाह कबूल कर लिया।

जशपुर पुलिस को महाराष्ट्र के शराब माफिया के फरार होने की सूचना के महज आधा घंटा के भीतर वाहन सहित सभी आरोपी पकड़ लिए जाने के बाद आईजी हिमांशु गुप्ता ने लोदाम थाना प्रभारी अरविंद मिश्रा का 5 हजार रुपये नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है। जशपुर के एसपी ने भी इस मामले में पुलिसकर्मियों को पुरस्कार देने की बात कही है।

जशपुर के एसपी ने इस गंभीर मामले की स्वयं देखरेख की और महज आधे घंटे के भीतर शराब माफिया को वाहन सहित घर दबोचा गया।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने जशपुर पुलिस को दी बधाई दी है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleआईएसएल-5 : एटीके ने एफसी पुणे सिटी को 1-0 से हराया
Next articleमोर्निंग न्यूज बुलेेटिन, रविवार 11 नवम्बर, एक नजर बड़ी खबरों पर !
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here