क्रोएशिया फीफा खिताब जीती तो भारत के इस गांव में मनेगा जश्न

फीफा विश्वकप 2018 का जब रविवार को फाइनल मुकाबला खेला जाएगा ।भारत में गोवा के एक गांव के लोग भूखे प्यासे टीवी के आगे बैंठे होंगे । बता दें की ऐसा सिर्फ इस खेल से प्रेम के चलते नहीं है बल्कि फाइनल में अपनी जगह बनाने वाले क्रोएशिया कीटीम के लिए होगा ।

0
108

जयपुर ( स्पोर्ट्स  डेस्क) ।फीफा विश्वकप 2018 का जब रविवार को फाइनल मुकाबला खेला जाएगा ।भारत में गोवा के एक गांव के लोग भूखे प्यासे टीवी के आगे बैंठे होंगे । बता दें की ऐसा सिर्फ इस खेल से प्रेम के चलते नहीं है बल्कि फाइनल में अपनी जगह बनाने वाले क्रोएशिया कीटीम के लिए होगा ।

दरअसल यकीन मानों तो इस गांव के लोगों का क्रोएशिया से नाता रहा है । क्रोएशिया से कुछ लो ओल्ड गोवा से करीब 4 किलोमीटर दूसर स्थित गंडौलिम में 16 वीं शताब्दी में आए थे । वे यहां ज्यादा वक्त के लिए तो नहीं रुके लेकिन कंबर्जुआ कनैल के पास स्थित चर्च ऑफ साओ ब्राज को उन्होंने पुन: स्थापित किया।

यह काम उन 200 लोगों की मौजूदगी की निशानी बन गया । और इत्तेफाक से क्रोएशन इंडॉलजिस्ट ड्रवका मिटिसिक ने इस रिश्ते को खोज निकाला । वह भारत में संस्कृत पढ़ने आई थीं । उन्होंने इसकी पड़ताल की। उन्होंने पाया की यह चर्च क्रोएशिया की एक भव्य चर्चा का छोटा रुप है ।

यह देखकर उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा । हालांकि चर्च में जाने के रास्ते को टूटा देख उनका दुख हुआ । लोकनिर्माण विभाग ने उसे तोड़कर नावों के लिए कैनल तक जाने रास्ता बनाया था ।गोव क्रोएशिया के रिश्ते का अध्ययन करने के लिए 1 अप्रैल 1999 को क्रोएशिया ने पहली बार एक प्रतिनिधिमंडल गंडौलिम पहुंचा।

इतिहासकारों के मुताबिक पुर्तगाल से क्रोएशियाई लोगों को जहाज बनाने के लिए लाया गया था । वे इस क्षेत्र में माहिर माने जाते थे। इससे अलग कुछ लोगों का मानना है कि वो ओल्ड गोल्ड गोवा में मर्चेंट्स के तौर पर आए थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here