प्रज्ञा ठाकुर को लेकर भाजपा पर माकपा ने उठाए सवाल

0
64

प्रज्ञा सिंह ठाकुर के लोकसभा मतदान पर नामांकन करने के बाद मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने भाजपा पर “सबका साथ सबका विकास” के नारे को छोड़कर “खुली हिंदुवादी-सैन्यवादी-अराजकतावाद अपील” को अपनाने का आरोप लगया।

माकपा की पत्रिका ‘पीपुल्स डेमोक्रेसी’ में छपे एक संपादकीय में कहा गया, “यह उन लोगों के लिए एक खतरे की घंटी है, जो इस बात को अब भी मानते हैं कि (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) मोदी विकास के मुद्दे पर खड़े हैं। अब भ्रम की कोई गुंजाइश नहीं बची है।”

भाजपा द्वारा भोपाल सीट से प्रज्ञा ठाकुर के नामांकन दाखिल कराने पर इसमें कहा गया है, “चुनाव के लिए वास्तविक मंच की घोषणा कर दी गई है, जिसमें सिर्फ कट्टरपंथी हिंदुत्व और नकारत्मकता को जगह दी गई है।”

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर वर्ष 2008 के मालेगांव बम धमाके में आरोपी है जिसमें छह लोगों की मौत हो गई थी। आरोप-पत्र में कहा गया है कि धमाके में जिस मोटरसाइकिल का इस्तेमाल किया गया था वह साध्वी प्रज्ञा की थी।

संपादकीय में कहा गया है, “एक आतंकी हमले में आरोपी को बीजेपी की तरफ से टिकट दिया गया.. यह बात किसी से छिपी नहीं है कि पिछले कुछ सालों में, प्रज्ञा ठाकुर की कट्टर हिंदुत्व और मुस्लिम विरोधी सोच सामने आई है। ”

प्रज्ञा की उम्मीदवारी पर माकपा ने मोदी की आलोचना की।

अपने भाषण में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि प्रज्ञा की उम्मीदवारी उन लोगों को जवाब है जो वसुधैवकुटुंबकम को मानने वाली 5,000 साल पुरानी सभ्यता को बदनाम करते हैं। एक दूसरे भाषण में मोदी ने उन लोगों की निंदा की जिन्होंने हिंदू आतंक की बात कर पूरे हिंदू समाज का अपमान किया।

संपादकीय में कहा गया, “इस दावे की बेरुखी सभी कारणों को बचाती है। नाथूराम गोडसे से लेकर 2012 में गुजरात पोग्रोम तक, दाभोलकर, पनसरे, कलबुर्गी और लंकेश की हत्याओं में – हिंदुत्व के आतंक का एक लंबा दौर है। ”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous article‘हौली-हौली’ गाने में रकुलप्रीत और तब्बू की दिलकश अदाओं के बीच फंसे अजय देवगन
Next articleश्रीदेवी बंग्लो की रिलीज से पहले प्रिया प्रकाश के हाथ लगी एक और बड़ी बॉलीवुड फिल्म, जानें खबर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here