कर्नाटक में कोविड केयर घोटाला? फंड के गलत इस्तेमाल का सरकार पर आरोप

0

कर्नाटक में कोरोना के प्रसार को रोकने की पूरी कोशिश जारी है। इस बीच राज्य में कोविड केयर से जु़ड़ी खरीद में बड़ा घोटाला होने की खबर है। कांग्रेस के एचके पाटिल के नेतृत्व में विधानमंडल की लोख लेखा समिति कोरोना टेस्टिंग किट और स्वास्थ्य उपकरणों को लेकर जांच करना चाहती है।

पाटिल का कहना है कि कुछ अड़चनों की वजह से जांच आगे नहीं बढ़ पाई है। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष विश्वेसर हेगड़े से इस मामले पर बात करने की योजना बनाई है।

आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग ने एन-95 मास्क के 147 रुपये चुकाए हैं। जबकि चिकित्सा शिक्षा विभाग ने उन्हें 295 रुपये में खरीदा है। इसके चलते एक विभाग के लिए मल्टी पैरामीटर मॉनिटर 1.67 लाख रुपये में खरीदे गए हैं। स्वास्थ्य विभाग की रसीद में 5.37 लाख रूपये की लागत का जिक्र है।

इसके साथ ही इनकी गुणवत्ता पर भी सवाल उठ रहे हैं। गुणवत्त के मानकों पर खरा नहीं उतरने के कारण सोसाइटी ने अप्रैल में दिल्ली के एक विक्रेता को कुछ वेंटिलेटर वापस किए थे। 28 अप्रैल को इस मामले में विक्रेता को एक पत्र लिखकर कहा गया है कि इन हाउस टेस्टिंग में पाया गया है कि मैन्यफेक्ट्रिंग डीटल के साथ मॉडल, प्रमाण उपलब्ध नहीं हैं। वेंटिलेटर से छेड़छाड़ तक पाई गई है।

अब राज्य में पीएसी कोरोना की चपेट में आने के बाद ऐसी सभी खरीद को लेकर जांच करना चाहती है। 20 सदस्यीय समिती में सभी दलों के विधायक हैं। वहीं पाटिल कांग्रेस से विधायक हैं। पाटिल ने कहा है कि इस मसले पर स्पीकर के साथ बैठक कर इसे सुलझाएंगे।

Read More…
देश में कोरोना का कहर जारी! अब तक 2 लाख 36 हजार से ज्यादा मामले हुए
अमेरिका: अश्वेत जॉर्ज को श्रद्धांजलि देने उमड़े हजारों लोग, राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ केस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here