कॉरपोरेट कर में कटौती, बाजार में पूंजी प्रवाह के लिए उठाए कई कदम

0
70

देश की अर्थव्यवस्था को सुस्ती के दौर से उबारने के लिए सरकार ने शुक्रवार को कतिपय कर प्रोत्साहनों की घोषणा की। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने घरेलू कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर घटाकर 22 फीसदी करने का एलान किया, बशर्ते ये कंपनियां किसी प्रकार की छूट व प्रोत्साहन प्राप्त नहीं करेंगी।

साथ ही, इन कंपनियों को किसी प्रकार का न्यूनतम वकल्पिक कर (एमएटी) का भी भुगतान नहीं करने की आवश्यकता होगी। इस मामले में लागू कर की दर 25.17 फीसदी होगी, जिसमें सेस (उपकर) और सरचार्ज शामिल हैं।

वित्तमंत्री ने विनिर्माण के क्षेत्र में नया निवेश करने वाली नई घरेलू कंपनियों के लिए कॉरपोरेट कर की दर घटाकर 15 फीसदी करने की घोषणा की। इन कंपनियों को मार्च 2023 को या उससे पहले उत्पादन आरंभ करना होगा और उन्हें एमएटी से भी राहत मिलेगी।

सीतारमण ने कहा कि आयकर कानून व वित्त अधिनियम 2019 में परिवर्तन को प्रभावी बनाने के लिए कराधान कानून (संशोधन) अध्यादेश 2019 को पहले ही लागू कर दिया गया है।

जो कंपनियां रियायती दर का विकल्प नहीं चुनेगी उन पर कॉरपोरेट कर की मौजूदा दर लागू होगी। कर छूट की अवधि समाप्त होने पर ऐसी कंपनियां रियायत कर व्यवस्था का विकल्प चुन सकती हैं। लेकिन एक बार विकल्प चुनने के बाद इसकी वापसी नहीं होगी।

रियायत और कर प्रोत्साहन का लाभ लेने वाली कंपनियों को राहत प्रदान करते हुए एमएटी को 18.5 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी कर दिया गया है।

पूंजी बाजार में धन का प्रवाह सुनिश्चित करने के मकसद से एक अन्य फैसला लिया गया है जिसके तहत वित्त अधिनियम 2019 में प्रदत्त सरचार्ज वृद्धि कंपनी में इक्विटी शेयरों या इक्विटी केंद्रित बिजनेस ट्रस्ट की यूनिट की बिक्री से प्राप्त पूंजीगत लाभ (कैपिटल गेंस) के लिए लागू नहीं होगी।

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) के डेरिवेटिव्स समेत किसी प्रतिभूति की बिकवाली से प्राप्त पूंजीगत लाभ पर भी सरचार्ज वृद्धि लागू नहीं होगी।

सरकार ने इन्फोसिस जैसी कंपनियों को भी राहत प्रदान की है जिसने बजट में नया बायबैक कर लागू किए जाने से पहले शेयर बायबैक योजना की घोषणा की थी।

सीतारमण ने कहा कि सूचीबद्ध कोई भी कंपनी जिसने पांच जुलाई 2019 से पहले बायबैक की सार्वजनिक घोषणा की है उसे कर का भुगतान नहीं करना होगा।

सरकार ने दो फीसदी कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) फंड का दायरा बढ़ाने का भी फैसला लिया है। कंपनियों को यह फंड चिन्हित कार्यकलापों के लिए प्रदान करना होता है। लेकिन यह राशि अब केंद्र या राज्य सरकार की एजेंसी या केंद्र व राज्य सरकारों की पीएसयू कंपनियों द्वारा वित्तपोषित इन्क्यूबेटर पर भी किया जा सकता है। सीएसआर की राशि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) और अन्य स्वायत्त निकायों के अनुसंधान व विकास कार्यक्रमों के लिए भी किया जा सकता है।

सीतारमण ने कहा कि कॉरपोरेट कर में कटौती की घोषणा से सालाना 1.45 लाख करोड़ रुपये के कुल राजस्व की कमी होगी। यह बदलाव इसी वित्त वर्ष से लागू होगा इसलिए छह महीने की अवधि के दौरान संतुलन बनाना होगा।

उन्होंने कहा कि इससे राजस्व में होने वाली कमी से खजाने पर अतिरिक्त दबाव नहीं आएगा या घाटे पर कोई प्रतिकूल असर नहीं होगा क्योंकि इससे निवेश और मेक इन इंडिया परियोजना को प्रोत्साहन मिलेगा, जिसके फलस्वरूप आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा।

इससे पहले, वित्तमंत्री ने गुरुवार को कई घोषणाएं करते हुए कहा कि सरकारी बैंकों से कहा गया कि वे संकटग्रस्त एमएसएमई के किसी भी कर्ज को मार्च 2020 तक गैर-निष्पादित परिसंपत्ति(एनपीए) घोषित न करें।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleशाओमी Mi Band 4 की अगली सेल 28 सितबंर को निर्धारित, शानदार फीचर्स से है लैस
Next articleऋतिक के लिए आसान नहीं था आनंद कुमार से कबीर के किरदार में खुदको बदलना, शेयर किया अनुभव
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here