Coronavirus: लॉकडाउन और सीलिंग में जान लें फर्क, ऐसे बढ़ सकती हैं मुश्किलें…

0

घातक कोरोना का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। इस पर काबू पाने के लिए पहले लॉकडाउन लगाया गया। इसके बाद भी कई इलाकों में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। इस बीच सरकार ने कोरोना संकट पर लगाम कसने के लिए दिल्ली, महाराष्ट्र, यूपी और मध्य प्रदेश के कोरोना हॉटस्पॉट इलाकों को सील कर दिया है। हालांकि सील किए गए इलाकों में कानूनी प्रक्रिया ज्यादा सख्त होती है।

लॉकडाउन के दौरान जरूरी सामान के लिए छूट मिली हुई थी। इनमें बैंक, सब्जी, डेयरी, दवा, किराना की दुकान जैसी जरुरत की चीजें खुली थी। जहां लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर जरुरत का सामान खरीद सकते थे, लेकिन अब जिन इलाकों में सील कर दिया गया है। वहां ये सब बंद रहेगा। यानी अब कोई भी अपने घर से बाहर नहीं निकल सकेगा। सील इलाकों को सैनिटाइज भी किया जाएगा।

कोरोना से प्रभावित चिन्हित इलाकों में स्वास्थ्यकर्मी, पुलिस प्रशासन और सफाईकर्मी को एंट्री रहेगी। बाकी अन्य को प्रवेश नहीं दिया जाता है। लॉकडाउन में जारी पास को भी निरस्त कर दिए जाते हैं। सील किए गए इलाकों में सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं चालू रहेगी या ऐसे इलाकों में सिर्फ एंबुलेंस को एंट्री मिल सकती है। बैंक, राशन की दुकानों पूरी तरह से बंद रहेंगी। सील किए गए क्षेत्रों में लगातार सैनिटाइज किया जाएगा।  प्रशासन की तरफ से होम डिलीवरी की व्यवस्था की गई है। हॉटस्पॉट वाले इलाके में से किसी को कुछ जरूरत है तो वह प्रशासन से संपर्क कर सकता है।

कोरोना हॉटस्पॉट एरिया की सीलिंग में सख्त पहरा रहता है। इस वजह से इन इलाकों में किसी भी व्यक्ति का बाहर निकलना वर्जित होता है। नियम तोड़ने पर कठोरी कार्रवाई की जा सकती है।

Read More….

कोरोना संकट: बैंक-दुकान सब कुछ बंद, जानें सील किए इलाकों पर क्या होगा असर
Coronavirus: सुप्रीम कोर्ट का आदेश, निजी लैब में कोरोना टेस्ट की जांच होगी मुफ्त…..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here