कोरोना संकट: लॉकडाउन में खुदरा व्यापारियों को 9 लाख करोड़ रुपये का हुआ नुकसान…

0

देश में लागू लॉकडाउऩ के चलते बीते दो माह में खुदरा कारोबारियों को करीब 9 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। कैट के अनुसार, कोरोना संकट के बीच कारोबार में छूट के बावजूद कारोबारियों को घाटे का सामना करना पड़ा है। केंद्र सरकार ने लॉकडाउन में ढील दी तो देशभर में बाजारों में फिर से दुकानें खुली हैं। लेकिन उनमें केवल 5 प्रतिशत व्यापारी हो पाया है। दुकानों पर 8 प्रतिशत कर्मचारी ही काम पर लौट पाए हैं।

कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडिया ट्रेडर्स (कैट) की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि बीते दो महीने से देशभर में लॉकडाउन जारी है। इस बीच घरेलू व्यापार में करीब 9 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। केंद्र और राज्य सरकारों को 1.5 लाख करोड़ के जीएसटी राजस्व का नुकसान होना सामने आया है।

आपको बता दें कि भारत का खुदरा व्यापार करीब 7 करोड़ व्यापारियों के द्वारा चलाया जाता है। इस सेक्टर में करीब 40 करोड़ लोग रोजगार पाते हैं और अपनी आजीविका चलाते हैं। हालांकि इस सेक्टर में 50 लाख करोड़ रुपये के आसपास कारोबार होता है।

कैट के मुताबिक, कोरोना वायरस संकट के बीच देश के कारोबारियों को वित्तीय संकट का सामना करना पड़ा है। सरकार द्वारा व्यापारियों को कोई नीतिगत समर्थन नहीं मिलने से भविष्य को लेकर चिंता खड़ी हो गई है। कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच खुदरा व्यापार से जुड़े 80 प्रतिशत के करीब लोग अपने गांवों की तरफ लौट गए हैं। ऐसे में दुकानदारों के सामने कामगारों का टोटा होने के साथ नकदी का संकट भी खड़ा हो गया है।

Read More…
कोलकाता की 118 साल पुरानी मसाला कंपनी को 2 हजार करोड़ में खरीदेगी
Eid Mubarak 2020: क्यों मनाया जाता है रमजान में ईद-उल-फितर का त्योहार….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here