coronavirus Effect: लॉकडाउन के बाद थिएटर बिजनेस में आ सकता है बदलाव

0

देश में लॉकडाउन दो महीने से चल रहा है। जिसने सभी के जीवन पर किसी ना किसी तरह से प्रभाव छोड़ा है। इससे फिल्म इंडस्ट्री भी अछूती नहीं है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पिछले 19 मार्च से फिल्म इंडस्ट्री पूरी तरह से बंद है ना तो कोई फिल्म रिलीज हुई है और ना ही किसी तरह की शूटिंग हो रही है। ऐसे में आज बॉलीवुड के सभी सेलेब्स जो अक्सर अपने अपने काम में व्यस्त रहते थे वो अपने घरों में कैद हैं। लॉकडाउन को लगातार चार पर बढ़ाया गया है। लॉकडाउन 4.0 इसी 31 मई को खत्म होने वाला है। अब इस वक्त देश के जैसे हालात है उसको देखते हुए ये कयास लगाया जा रहा है कि कि हो सकता है कि आने वाले दिनों यानी एक जून को फिर से सरकार लॉकडाउन की अवधि बढ़ा दें?

अमिताभ बच्चन ने शेयर किया पोस्ट बताया 44 साल में ऐसी हो गई हालत

वैसे ये हमारा अनुमान है हो सकता है सरकार इस बार लॉकडाउन खोल दें। अगर लॉकडाउन खुल गया तो इससे थिएटर बिजनेस में काफी बदलाव देखने को मिल सकता है। जो बुरा बदलाव ही होगा थिएटर मालिकों के लिए। क्योंकि पहले जैसी हालात होने में तकरीबन एक से डेढ़ साल तक का समय लग जाएगा। ऐसे में थिएटर मालिकों को ज्यादा नुकसान के हालात है।

World No Tobacco Day: चाहकर भी खुद को सिगरेट पीने से नहीं रोक पाए बॉलीवुड के ये स्टार्स

सबसे पहला बदलाव ये होगा कि थिएटर मालिकों को साफ सफाई, कर्मचारियों की सुरक्षा आदि का ध्यान रखना होगा। हर किसी को मास्क, सैनिटाइजर, पीपीई किट, ग्लव्स आदि मंगवाने होंगे। इसके अलावा हर शो के बाद सिनेमाहाल को सैनिटाइज करना। जिससे पहले की तुलना में ज्यादा खर्च आएगा।

जब ससुर अमिताभ बच्चन बहू ऐश्वर्या के बचाव के लिए ढाल की तरह हुए थे खड़े

theater

इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना होगा। यानी एक सीट छोड़कर दर्शकों को सिनेमाघरों में बैठना होगा। जिससे थिएटर मालिकों की कमाई पहले से 50 प्रतिशत तक कम हो जाएगी।

coronavirus Effect: लॉकडाउन के बाद थिएटर बिजनेस में आ सकता है बदलाव

तीसरी बात ये है कि लॉकडाउन खुलने के बाद मेकर्स और प्रोड्यूसर तुरंत अपनी फिल्में नहीं रिलीज करेंगे। क्योंकि उनका ये अनुमान होगा कि लॉकडाउन खुलने के तुरंत बाद दर्शक सिनेमाघरों का रूख नहीं करेंगे। ये हो सकता है कि कुछ बड़े मेकर्स और प्रोड्यूसर हालात का जायजा लेने के लिए छोटे बजट की फिल्में रिलीज कर सकते है। जिससे उनको पता चल सके कि कितने प्रतिशत दर्शक सिनेमाघरों तक जा रहे हैं।

दर्शकों को आकर्षित करने के लिए हो सकता है कि थिएटर मालिक टिकट कीमतों में गिरावट करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here