कोरोना से सहमी दुनिया! वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए बड़ा खतरा

0

चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप कम होता दिखाई नहीं दे रहा है। मौत का आंकड़ा 2715 के करीब पहुंच गया है। ऐसे में लोगों के सामने संकट खड़ा हो गया है। करीब 78000 से भी अधिक लोगों में कोरोना के संक्रमण की पुष्टी हो चुकी है। चीन में कई उद्योग धंधे कोरना के कहर से चौपट हो गए हैं। दुनिया के कई देशों ने चीन से अपनी उड़ानों पर रोक लगा रखी है। ऐसे में चीन की अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस का बड़ा असर देखने को मिल रहा है।

विश्व स्वाथ्य संगठन ने कहा है कि चीन के बाहर कोरोना वायरस के नए मामले लगातार सामने आ रहे हैं। ऐसे में इस बीमारी पर लगाम लगाना कई देशों के लिेए चुनौती बन गया है। WHO के एक अधिकारी ने बताया कि 25 फरवरी को चीन में जितने मामले कोरोना के सामने आए हैं, उससे ज्यादा चीन के बाहर सामने आए हैं। ऐसे में कोरोना का असर अब कारोबार और उद्योग जगत को प्रभावित कर रहा है। वैश्विक स्तर पर मंदी का कारण कोरोना हो सकता है, अगर इस बीमारी पर समय रहते काबू नहीं पाया गया तो हालात बेकाबू हो जाएंगे। वैश्विक अर्थव्यवस्था का असर कई देशों सहित भारत पर भी पड़ता दिखाई दे रहा है। भारत के कई उद्योग धंधों पर कोरोना का असर देखने को मिल रहा है। ऑटो सेक्टर, सर्राफा मार्केट, भारतीय शेयर बाजार में गिरावट और कई उद्योग कोरोना से प्रभावित हो रहे हैं।

भारत से चीन के लिए निर्यात हो रहे मास्क पर रोक लगा दी गई है। चीन में कोरोना वायारस के कारण मास्क की भारी खपत देखने को मिल रही है। ऐसे में भारत से मास्क चीन के लिए निर्यात किया जा रहा था। इससे राजस्थान सहित देशभर में मास्क की कमी रहने लग गई थी। दुकानों पर मास्क नहीं मिल पा रहे थे, लेकिन अब मास्क पर भारत सरकार ने रोक लगा दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here