इंदौर में कोरोना पीड़ितों की संख्या 213 हुई

0
New Delhi: Medics, wearing masks, walk as the police cordoned off an area in Nizamuddin after some people showed coronavirus symptoms, in New Delhi, Monday, March 30, 2020. The police took around 200 such people to various hospitals as they participated in a religious congregation at a mosque, few days back. (PTI Photo/Ravi Choudhary) (PTI30-03-2020_000249B)

मध्य प्रदेश के इंदौर में कोराना पीड़ित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। यहां 40 मरीजों कीं सख्या में इजाफा हुआ है। यहां अब मरीजों की संख्या बढ़कर 213 और राज्य में कुल मरीजों की संख्या 381 हो गई है। इंदौर के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए बुलेटिन के अनुसार इंदौर में मरीजों की संख्या 173 बढ़कर 213 हो गई है। इस तरह 40 नए मरीज सामने आए है। वहीं 21 मरीजों की मौत हो चुकी है। 161 मरीजों की हालत स्थिर है तो वहीं 13 मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है।

बीती रात तक विभाग की ओर से जारी आंकड़ो इंदौर में 213, भोपाल में 94 , जबलपुर में आठ, ग्वालियर छह, उज्जैन में 15, मुरैना में 13, खरगोन में 12, बड़वानी में 12, शिवपुरी व छिंदवाड़ा में दो-दो और बैतूल, विदिशा, ‘श्योपुर व अन्य राज्य से आए एक-एक मरीजों के नमूनें पॉजिटिव पाए गए हैं । इस तरह कुल मरीजों की संख्या 381 हो गई है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleचीन के ऑटो लोन रिकॉर्ड अनुसार एबीएस कोरोनावायरस कारण जोखिम में घिरा हुआ है
Next articleआज ही के दिन 10 साल पहले मिलाप जावेरी ने रखा बॉलीवुड में कदम
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here