कोरोनाकाल में सेवा कार्य करने वाले लोगों को संघ से जोड़ें : Mohan Bhagwat

0

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि कोरोना काल में आरएसएस के स्वयंसेवकों के इतर जिन लोगों सेवा कार्य किया उन्हें संघ से जोड़ा जाए। सोमवार को संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र की बैठक में मोहन भागवत ने कहा कि, “स्वयंसेवकों के अतिरिक्त जिन लोगों ने कोरोना काल में सेवा कार्य किया वे सज्जन शक्तियां हैं। हमें चाहिए कि ऐसी सज्जन शक्तियों को अपने संपर्क में लाएं। उन्हें संगठन की रीति व नीति से परिचित कराएं। उनकी सकारात्मक ऊर्जा को राष्ट्र निर्माण में लगाएं।”

संघ प्रमुख ने कोरोना काल में संघ के स्वयं सेवकों के अलावा ऐसे लोग जिन्होंने आगे बढ़कर सेवा कार्य किया उनकी दिल से तारीफ की है। कहा ऐसे लोगों को संघ से जोड़ें।

उन्होंने कहा कि प्रत्येक स्वयंसेवक को इस महायज्ञ में अपनी भूमिका सुनिश्चित करनी होगी। बदलते परिवेश में खुद को भी आवश्यकता के अनुसार बदलना होगा।

संघ प्रमुख ने स्पष्ट संदेश दिया कि, “हमें ऐसा आत्मनिर्भर, सशक्त समाज बनाना है, जहां सभी को बराबरी का दर्जा मिले। मंदिर, जल स्रोत व श्मशान घाट जैसे स्थल सभी के लिए खुले हों। कहीं भी भेदभाव व छुआछूत की बात न हो। इसकी वजह यह कि टुकड़ों में बंटा समाज कभी भी न तो प्रगति कर सकता है और न मजबूती से खड़ा हो सकता है।”

प्रयागराज के जमुनापार स्थित गोहनिया में वशिष्ठ वात्सल्य पब्लिक स्कूल में आयोजित दो दिवसीय बैठक के समापन पर संघ प्रमुख ने कहा कि कोरोना काल में पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के काशी, अवध, कानपुर, गोरक्ष प्रांत में स्वयं सेवकों ने बेहतर काम किया। संघ प्रमुख की मौजूदगी में समाज की उत्सुक शक्ति को अपने समीप कैसे लाया जाए, उस पर भी विस्तार से चर्चा की गई।

इस दौरान संघ के राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने संघ प्रमुख को कोरोना काल में हुए सेवा कार्यो के दौरान कौन-कौन से नए प्रयोग किए गए, उसके बारे में भी विस्तार से बताया। संघ की शाखाओं द्वारा किए गए कार्यो का भी ब्यौरा पेश किया गया।

बैठक में यह भी विचार किया गया कि लॉक डाउन के दौरान जिन संस्थाओं, अफसरों, नागरिकों , डाक्टरों, सफाई कर्मियों ने श्रेष्ठ भूमिका निभाई, उनसे विशेष संपर्क किया जाए। बैठक में संघ के वर्तमान कार्यो की समीक्षा के साथ आगामी कार्यक्रमों पर भी विचार किया गया।

दो दिवसीय बैठक से यह निष्कर्ष निकाला गया कि संघ अब पर्यावरण संरक्षण के लिए तेजी से काम करेगा। संघ के सरकार्यवाह सुरेश भैया जी जोशी ने भी पर्यावरण संरक्षण के लिए चलाए जाने वाले कार्यक्रम पर अपने विचार व्यक्त किए।

बैठक में संघ प्रमुख के अतिरिक्त सर कार्यवाह भैया जी जोशी, सह सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले, मुकुंद, डॉ. मनमोहन वैद्य, डॉ. कृष्ण गोपाल के साथ तीन अखिल भारतीय अधिकारी बालकृष्ण त्रिपाठी, अनिल ओक, अजीत महापात्रा के साथ कानपुर, काशी, अवध व गोरक्ष प्रांत के पदाधिकारी भी मौजूद रहे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleBengal Election 2020: बिहार के बाद क्या बंगाल चुनाव में BJP का हथियार बनेगा रोजगार का मुद्दा….
Next articleShaheer Sheikh: अभिनेता शाहीर शेख ने अपनी गर्लफ्रेंड से की सगाई, तस्वीर शेयर कर किया ऐलान
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here