बंगाल में सीटों की मात्रा के बजाय गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित करेगी Congress : सूत्र

0

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस आगामी चुनावों के लिए वाम दलों के साथ सीट साझा करने को लेकर बातचीत में लगी हुई है, जबकि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने वाम दलों और कांग्रेस से हाथ मिलाने को लेकर दिलचस्पी दिखाई है। हालांकि कांग्रेस और वाम दल टीएमसी की अनदेखी कर रहे हैं। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने ममता बनर्जी को सोनिया गांधी से बात करने की सलाह दी है।

सीटों के बंटवारे के समझौते पर सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस का मुख्य ध्यान सीटों की गुणवत्ता पर होगा न कि बिहार में इसके विपरीत सीटों की मात्रा पर, जहां पार्टी ने कई सीटों पर चुनाव लड़ा, लेकिन उसे महज 19 सीटों पर ही जीत हासिल हो पाई थी।

कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के लिए वाम दलों के साथ सीटों पर समझौते के लिए एक समिति का गठन किया है। समिति में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी, सीएलपी नेता अब्दुल मनन, पूर्व राज्य प्रमुख प्रदीप भट्टाचार्य और नेपाल महतो शामिल हैं।

समिति ने ऐसी सीटों की पहचान की है, जहां उसका आधार मजबूत हो सकता है। इसके बाद पार्टी सभी संभावनाओं के साथ वाम दलों से बातचीत कर रही है। समिति के सदस्यों में से एक ने कहा, “हम केवल मजबूत सीटों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।”

बिहार चुनाव के नतीजों ने पार्टी को अधिक सीटें मिलने की संभावनाएं कम कर दी हैं। बिहार में कांग्रेस स्ट्राइक रेट को बरकरार नहीं रख सकी थी। कांग्रेस को उम्मीद के मुताबिक जीत नहीं मिला, जिसकी कीमत राजद गठबंधन को चुकानी पड़ी।

लेकिन कांग्रेस के सूत्रों का कहना है कि बिहार के नतीजों का पश्चिम बंगाल पर कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि हर राज्य अलग है और 2016 के विधानसभा चुनाव में वाम दलों ने अधिक सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन वह कांग्रेस ही थी जो 44 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही थी।

कांग्रेस और वाम दलों को इस बार कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि पिछले पांच वर्षों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राज्य में खुद को मजबूत किया है। भगवा पार्टी ने राज्य में 18 लोकसभा सीटें जीती हैं, जबकि राज्य में वाम दल अपना खाता भी नहीं खोल सके थे।

294 सदस्यीय पश्चिम बंगाल विधानसभा के मई के आसपास चुनाव होने वाले हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleउर्वशी रौतेला, महेश मांजरेकर ‘Inspector Avinash’ के कास्ट में शामिल हुए
Next articleAnirudh Dave अपने ‘खुशी के बंडल’ का स्वागत करने को तैयार
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here