कांग्रेस ने मोदी पर लगाया ‘स्वच्छ गंगा’ कार्यकर्ता की उपेक्षा का आरोप

0
119

कांग्रेस ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पर्यावरणविद् जी.डी. अग्रवाल की बार-बार भेजी गईं अर्जियों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया। स्वच्छ गंगा की मांग के लिए भूख हड़ताल पर बैठे अग्रवाल का गुरुवार को हृदयाघात से निधन हो गया था। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-कानपुर (आईआईटी-के) के प्रोफेसर रह चुके अग्रवाल (86) प्रदूषण मुक्त और निर्बाध गंगा की मांग को लेकर 22 जून से भूख हड़ताल पर थे।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने संवेदना संदेश में अग्रवाल की लड़ाई को आगे ले जाने की कसम खाई।

राहुल ने ट्वीट किया, “मां गंगा के सच्चे बेटे प्रो. जी.डी. अग्रवाल नहीं रहे। गंगा को बचाने के लिए उन्होंने स्वयं को मिटा दिया। हिन्दुस्तान को गंगा जैसी नदियों ने बनाया है। गंगा को बचाना वास्तव में देश को बचाना है। हम उनको कभी नहीं भूलेंगे। हम उनकी लड़ाई को आगे ले जाएंगे”

कांग्रेस ने मोदी पर भी वार करते हुए गंगा की सफाई के नाम पर सिर्फ जुबानी जमा खर्च करने का आरोप लगाया।

कांग्रेस पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर खाते पर लिखा, “गंगा की सफाई से संबंधित सभी योजनाएं मरणासन्न हैं, जबकि बड़े वादों से धोखा लगातार जारी है।”

पार्टी ने ‘मां गंगा को धोखा’ देने का आरोप लगाते हुए कहा, “गंगा की सफाई के लिए कुछ करने के बजाए प्रधानमंत्री मोदी भयावह रफ्तार से महज जुबानी जमा खर्च में लगे हैं।”

अग्रवाल द्वारा मोदी को लिखे पत्रों की याद दिलाते हुए कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने मोदी पर पर्यावरणविद् की लड़ाई की उपेक्षा करने का आरोप लगाया।

सिंघवी ने मोदी द्वारा 2012 में किए गए उस ट्वीट का भी उल्लेख किया जिसमें उन्होंने अग्रवाल के अच्छे स्वास्थ्य की प्रार्थना की थी और कांग्रेस की अगुआई वाली तत्कालीन केंद्र सरकार से गंगा को बचाने के लिए ठोस कदम उठाने की मांग की थी।

सिंघवी ने ट्वीट किया, “मोदी को लगातार पत्र लिखने वाले प्रोफेसर ने अपना जीवन अंतत: गंगा के लिए समर्पित कर दिया। साल 2012 वास्तव में बहुत अच्छा साल था जब मोदी, अग्रवाल के स्वास्थ्य के लिए चिंतित थे।”

अग्रवाल ने मोदी को 17 अगस्त 2018 को भेजे अपने अंतिम पत्र में करोड़ों हिंदुओं के लिए पूजनीय गंगा नदी में फिर से जान फूंकने में असफल बताते हुए मोदी सरकार के प्रति निराशा जताई थी।

अग्रवाल ने अपने पत्र में लिखा था, “मेरी आपसे यह अपेक्षा थी कि गंगाजी के लिए आप दो कदम आगे आएंगे और विशेष प्रयास करेंगे क्योंकि आपने आगे आकर गंगाजी से संबंधित सभी कार्यो के लिए पृथक मंत्रालय बनाया था।”

पत्र में उन्होंने आगे लिखा, “लेकिन पिछले चार सालों में, आपकी सरकार में लिए गए सभी कदम गंगाजी के लिए बिल्कुल भी लाभकारी नहीं रहे बल्कि इसकी जगह कारपोरेट सेक्टर और विभिन्न व्यापारिक घरानों को ही लाभ मिलता देखा गया।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleयूथ ओलम्पिक (5 ए साइड हॉकी) : पुरुष टीम सेमीफाइनल में
Next articleप्रधानमंत्री ने जेटली, प्रधान के साथ की तेल कीमतों की समीक्षा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here