सीएमएस इंफो सिस्टम्स ने फ्री ‘सीएमएस कैश2होम सर्विस’ सेवा शुरू की

0

भारत की सबसे बड़ी कैश और पेमेंट्स सोल्यूशंस कंपनी, सीएमएस इंफो सिस्टम्स ने सोमवार को एक नई और फ्री डोरस्टेप कैश डिलिवरी सर्विस ‘कैश2होम’ की पेशकश की है। इस सर्विस से वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों को घर से निकलने की जरूरत नहीं पड़ेगी और सुरक्षित तरीके से उनकी रकम उन तक पहुंचाने में मदद की जा सकेगी। सीएमएस की ‘कैश2होम’ सर्विस बुजुर्गों और दिव्यांगों को उनके घर की दहलीज तक बैंकिंग की सुविधा देने के रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के विजन से तालमेल रखते हुए शुरू की गई है। इस सुविधा से पिछले साल के अंत में बुजुर्गों और दिव्यांगों को जोड़ा गया था। हाल ही में इसे 31 मार्च 2020 के सकरुलर में फिर दोहराया गया है। यह लॉकडाउन ऐसे समय किया गया है, जब लोगों को अपनी सैलरी और पेंशन निकालने की जरूरत पड़ती है। यही वक्त है, जब सरकार डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर का पैसा हकदार लोगों के अकाउंट में ट्रांसफर करता है। इसलिए यह सर्विस इस मुसीबत के समय काफी मददगार हो सकती है।

सीएमएस इंफो सिस्टम के सीईओ और एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट राजीव कौल ने कहा, “यह आवश्यक है कि इस समय समाज के कमजोर वर्गों की सुरक्षा की जाए। हमने इस सर्विस को शुरू करने की काफी जरूरत महसूस की है। हमारा लक्ष्य मुसीबत के समय सुरक्षित ढंग से लोगों तक कैश पहुंचाना सुनिश्चित करना है। हम सभी अपने परिवार की भलाई, खासतौर से पैरंट्स और बुजुर्ग रिश्तेदारों की सुरक्षा के लिए चिंतित है। उन तक आवश्यक सामान और सुविधाएं पहुंचाना हमारी जिम्मेदारी है। कैश की सुविधा पहुंचाने से उन्हें दिल और मन से सुरक्षित महसूस कराया जा सकेगा और उन्हें महत्वपूर्ण सुरक्षा घेरे में लिया जा सकेगा। हम अपने 20 हजार कर्मचारियों और सहायकों की टीम के मजबूत सहयोग से यह सर्विस देने में सक्षम हो सकेंगे। हमारे कर्मचारियों और सहायकों ने यह सर्विस लॉन्च करने में 24 घंटे पूरी तरह जुटकर हमारी मदद की है। हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को सर्विस देने के लिए अधिक से अधिक बैंकिंग पार्टनर्स को इस सेवा से जोड़ रहे हैं।”

‘कैश2होम’ सर्विस का लाभ उठाने के लिए उपभोक्ता सभी पार्टनर बैंकों की सूची सीएमएस डॉट कॉम वेबसाइट पर देख सकते हैं। सीएमएस शुरूआत में इस सर्विस को सभी प्रमुख राज्यों में 50 लोकेशन पर लॉन्च कर रहा है, जिसका जल्द ही देश भर में 125 से ज्यादा जगहों पर विस्तार किया जाएगा। इस सर्विस को दक्षतापूर्वक प्रदान करने के लिए सीएमएस को दिस्टा इंडिया का समर्थन प्राप्त है जोकि एक एआइ इनेबल्ड लोकेशन इंटेलीजेंस प्लेटफॉर्म है।

सीएमएस को उम्मीद है कि 5 लाख नागरिक इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे। इस सर्विस से वह 10 हजार रुपये का औसत ट्रांजैक्शन कर सकेंगे। इस सर्विस से कुल मिलाकर 500 करोड़ रुपये की राशि का वितरण किया जा सकेगा, जिससे लोगों को अपना पैसा उनकी जरूरत के समय मिल सकेगा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleहनुमान जयंती कल: भक्तों के सभी संकट बाधा को दूर करते हैं श्रीराम भक्त हनुमान
Next articleकोरोना वायरस का बढ़ता संक्रमण, मददगार होगी विश्व स्वास्थ्य दिवस 2020 की थीम
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here