जमानत पर बाहर चल रहे चिन्मयानंद ने मनाया जन्मदिन

0

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद ने बुधवार को यहां मुमुक्षु आश्रम में अपना जन्मदिन बड़ी धूमधाम से मनाया। यौन उत्पीड़न और ब्लैकमेल के मामले में जमानत पर बाहर चल रहे स्वामी चिन्मयानंद को उनके जन्मदिन पर बधाई देने के लिए सैकड़ों की संख्या में समर्थक जुटे। उन्होंने रामायण पाठ सुना और राम मंदिर आंदोलन में भाग लेने वालों की प्रशंसा की।

उन्होंने कहा, “जिन लोगों ने अयोध्या के लिए कार सेवा की, वह सच्चे योद्धा हैं। चूंकि मंदिर निर्माण होने जा रहा है, ऐसे में उनका सम्मान होना चाहिए।”

आश्रम के प्रबंधकों के अनुसार, समारोह की शुरुआत को चिह्न्ति करने के लिए मंगलवार शाम रामायण के ‘सुंदरकांड’ का पाठ किया गया। इस अवसर पर विशेष प्रसाद की व्यवस्था की गई थी, जिसे भक्तों में बांटा गया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने स्थानीय हिंदू युवा वाहिनी इकाई द्वारा आश्रम में आयोजित एक कार्यक्रम में भी भाग लिया।

संयोग से चिन्मयानंद को जमानत देने वाले हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को खारिज कर दी थी।

गौरतलब है कि स्वामी चिन्मयानंद के ट्रस्ट से चलने वाले शाहजहांपुर लॉ कॉलेज की एक छात्रा ने उनपर कथित तौर पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था, जिसके बाद पिछले साल 20 सितंबर को आईपीसी की धारा 376 सी के तहत दुष्कर्म के आरोप में स्वामी की गिरफ्तार हुई थी।

समानांतर मामले में पीड़िता पर चिन्मयानंद ने कथित रूप से ब्लैकमेल कर धन मांगने का आरोप लगाया था। हाईकोर्ट ने 4 दिसंबर को स्वामी चिन्मयानंद को जमानत दे दी थी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleकोरोनावायरस से बचाने बंगाल भाजपा बांट रही है ‘मोदी जी’ के नाम वाला मास्क
Next articleआखिर ऐसा क्या हुआ कि दक्षिण अफ्रीकी टीम के दो खिलाड़ियों को देना पड़ा ‘मैन ऑफ द मैच’
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here