कोरोनावायरस के कहर से उभरती चीनी अर्थव्यवस्था

0

चीन में जानलेवा कोरोनावायरस का कहर लगातार जारी है, पर चीनी सरकार इसकी रोकथाम में कोई कसर नहीं छोड़ रही। चीनी नववर्ष के दौरान जब महामारी का प्रकोप फैलने लगा, तब इसके प्रभाव की गंभीरता पहली बार में स्पष्ट नहीं हुई, क्योंकि आमतौर पर उस समय ज्यादातर बिजनेस और कंपनियों का कारोबार बंद होता है।

अब, त्योहार बीत चुका है और कोरोनावायरस के चलते लगभग दो हफ्तों तक छुट्टियां बढ़ाई गईं हैं, और कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में, खासकर ‘प्रमुख उद्योगों’ जैसे कि भोजन और फार्मास्यूटिकल्स में काम फिर से शुरू हो गया है। हालांकि, अभी भी कई ऐसे उद्योग-धंधे हैं जहां अभी तक काम पूरी तरह से शुरू नहीं हुआ है।

लेकिन अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए चीन सरकार के पास पर्याप्त नीतियां हैं। उसकी अर्थव्यवस्था के दीर्घकालिक सकारात्मक रुझान में बदलाव आने के कोई आसार नहीं है। चीन निश्चित रूप से आर्थिक और सामाजिक विकास के लक्ष्यों और कार्यो को पूरा करने के लिए आश्वस्त है।

नये कोरोनावायरस महामारी के फैलने से दुनिया भर के शेयर बाजारों और विशेष रूप से एशियाई बाजारों में गिरावट देखने को मिली है, जिससे निवेशकों के पसीने छूटने लगे हैं, और अर्थशास्त्री चिंतित हैं। शंघाई कम्पोजिट इंडेक्स में 2.8 प्रतिशत और हांगकांग के हांग सेंग में 1.5 प्रतिशत की गिरावट देखी गई।

विश्लेषक, जिन्होंने पहले चीन की पहली तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर को 6.1 प्रतिशत का अनुमान लगाया था, अब यह आंकड़ा 5.9 प्रतिशत (या उससे कम) के करीब पहुंच गया है, जो सीधे नये कोरोनावायरस के फैलने से उत्पन्न हुआ है।

हालांकि, विश्लेषकों का मानना है कि यह प्रभाव बस थोड़े समय के लिए ही है और जैसे ही महामारी फैलना रुक जाएगी तो घरेलू अर्थव्यवस्था अपनी सामान्य पटरी पर लौट आएगी। पिछले समय में आयी समान आपदाओं की ओर इशारा करते हुए विश्लेषक रिकवरी प्रवृत्ति की बात कर रहे हैं, वो इसलिए क्योंकि बाजार मांग में तेजी है जिससे अर्थव्यवस्था की सेहत दुरुस्त होने में मदद मिल सकेगी, और यह लगभग दूसरी तिमाही के मध्य या अंत में होने की संभावना है। चीन सक्रिय रूप से विभिन्न उद्योगों के उत्पादन और कार्य बहाली पर जोर दे रहा है। कुछ विदेशी निवेश वाले उद्यमों का उत्पादन भी लगातार बहाल हो रहा है।

महामारी के बावजूद, चीन के उच्च-स्तरीय अधिकारी आर्थिक विकास को बनाए रखने के लिए इस साल के आर्थिक और सामाजिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सभी स्तरों की समितियों और अधिकारियों को प्रोत्साहित कर रहे हैं। नई कर नीतियों और अन्य राजकोषीय उपायों को शुरू किया जा रहा है, ताकि क्षतिग्रस्त उद्योगों को बोझ से निपटने में मदद मिल सके।

चीन के केंद्रीय बैंक ने मंदी से निपटने के उपायों को लागू करके सहायता बढ़ाने की अपनी मंशा जाहिर कर दी है। केंद्रीय बैंक ने 3 खरब युआन का विशेष ऋण दिया है और महामारी से लड़ने वाले प्रमुख उद्यमों को खास तरजीह दी है। चीन के वित्त मंत्रालय ने चिकित्सा देखभाल और अन्य संबंधित उपकरणों पर कुछ 1.6 बिलियन डॉलर की सब्सिडी जारी की है। देश की मीडिया संस्थाओं से भी आग्रह किया गया है कि वे आर्थिक सुधार पर ध्यान दें।

चीन में महामारी की रोकथाम में सकारात्मक प्रगति हासिल करने के साथ कारोबारों की बहाली पर भी जबरदस्त तरीके से जोर दिया गया है। अर्थव्यवस्था की दशा सुधारने के लिए चीन द्वारा किये जा रहे प्रयासों को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और अंतर्राष्ट्रीय बिरादरियों का सकारात्मक मूल्यांकन मिला है।

चीन का अमेरिका के साथ व्यापार युद्ध चल रहा है, और पहले से ही धीमी अर्थव्यवस्था (2017 के 6.9 प्रतिशत से 2019 के 6.1 प्रतिशत तक कम हुआ) है, जिनके चलते यह नई चुनौती चीन की ताकत और शासन क्षमता की अग्निपरीक्षा है। आने वाले वक्त में इसका असर कितनी दूर तक फैलेगा, यह अभी देखना बाकी है, और इस समय अनुमान लगाना भी मुश्किल है। साल 2002 में जब सार्स महामारी फैली थी, तब चीन की अर्थव्यवस्था पर उसका प्रभाव ‘उल्लेखनीय लेकिन अल्पकालिक’ था, और इसके नौ महीने बाद सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि में 1-2 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। विश्व की अर्थव्यवस्था को भी करीब 40 अरब अमेरिकी डॉलर का नुकसान पहुंचा था। लगभग दो दशक बाद, क्षति-नियंत्रण प्रबंधन के मामले में चीन की क्षमताएं स्पष्ट रूप से काफी उन्नत हुई हैं।

समस्या को बड़े ही सुरक्षित तरीके से नियंत्रित किया जा रहा है। उम्मीद है कि इस संघर्ष में चीन और ज्यादा मजबूती से उभर कर आएगा, और जल्द ही कठिनाइयों को दूर करेगा। चीन अवश्य ही अपने देश की अर्थव्यवस्था को वापस सामान्य पटरी पर लाने में सफल होगा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleट्रंप की भारत यात्रा के दौरान देखना ना भूले अमेरिकी राष्ट्रपति के जोश का पुख्ता उदाहरण देने वाली हॉलीवुड की ये फिल्में
Next articleछत्तिसगढ़ में खेती बन रही फायदे का सौदा : भूपेश बघेल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here