China का लक्षित गरीबी उन्मूलन :मानव जाति की गरीबी में कमी का नया रास्ता

0

चीन ने हाल ही में ‘मानव गरीबी उन्मूलन में चीन का अभ्यास’ शीर्षक श्वेत पत्र जारी किया, जिसमें देश में गरीबी के खिलाफ युद्ध में प्राप्त उपलब्धियां सार्वजनिक की गईं। मसलन 2020 के अंत तक, चीन ने अपने गरीबी उन्मूलन के लक्ष्यों और कार्यों को निर्धारित के रूप में पूरा किया। मौजूदा मानकों के तहत 9 करोड़ 89 लाख 90 हजार ग्रामीण गरीब नागरिक गरीबी से बाहर निकले। विश्व बैंक के अंतरराष्ट्रीय गरीबी मानक के अनुसार, चीन की गरीबी में कमी की आबादी वैश्विक गरीबी का 70 प्रतिशत से अधिक थी। चीन ने ‘सतत विकास के लिए संयुक्त राष्ट्र 2030 एजेंडा’ के गरीबी में कमी के लक्ष्य को निर्धारित समय से 10 साल पहले हासिल कर लिया। चीन ने गरीबी को कम करने का करिश्मा कैसे किया? एक महत्वपूर्ण अनुभव लक्षित गरीबी उन्मूलन है। गरीबों की सही पहचान, गरीबी से जुड़े पंजीकृत कार्ड की स्थापना, व्यापक तौर पर गरीबी उन्मूलन से लक्षित लोगों के गरीबी उन्मूलन तक बदलाव, गरीबी उन्मूलन में ‘ रक्त आधान से रक्त निर्माण तक परिवर्तन, इन सिलसिलेवार लक्षित नीतियों ने गरीबी में कमी की समग्र प्रभावशीलता को उन्नत किया। गरीबी उन्मूलन के दौरान औद्योगिक गरीबी उन्मूलन, पारिस्थितिक गरीबी उन्मूलन, शैक्षिक गरीबी उन्मूलन आदि कदमों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।

लक्षित गरीबी उन्मूलन की रणनीति चीन में गरीबी के खिलाफ लड़ाई में जीत हासिल करने का उपयोगी साधन है, जिसने मानव जाति के गरीबी को कम करने में नया रास्ता भी दिखाया। श्वेत पत्र में कहा गया कि एशिया में, चीन ने आसियान देशों के साथ ग्रामीण गरीबी उन्मूलन योजना को संयुक्त रूप से आगे बढ़ाया। अफ्रीका में, चीन ने बुनियादी ढांचे के निर्माण और कृषि, चिकित्सा जैसे तकनीकी सहयोग सहायता परियोजनाओं को अंजाम दिया है। लातिन अमेरिका में, चीन ने कृषि प्रौद्योगिकी प्रदर्शन केंद्रों के निर्माण में सहायता की है, ताकि प्राप्तकर्ता देशों के स्थानीय लोगों को गरीबी से बचाया जा सके।

चीन ने ठीक समय पर संपूर्ण गरीबी को खत्म किया, जिससे दुनिया में अन्य देश देख सकते हैं कि गरीबी नियति नहीं है, और गरीबी अपराजेय भी नहीं है। अगर हमारे पास साहस, दूरदर्शिता, जिम्मेदारी और उत्तरदायित्व है, और हम गरीबी में कमी के उचित तरीकों में महारत हासिल करते हैं, तो मानव जाति गरीबी से छुटकारा पाने और समान विकास की प्राप्ति वाले लक्ष्य की ओर अग्रसर हो सकती है। इसी अर्थ में चीन की गरीबी कम करने की उपलब्धियां और मूल्यवान अनुभव न केवल चीन के हैं, बल्कि सारी दुनिया के भी हैं।

न्यूज स़ोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleविक्रम भट्ट के नए शो ‘Bisat’ में हैं संदीपा धर, ओंकार कपूर
Next articleUrmila ने केंद्र से महाराष्ट्र के लिए वैक्सीन भेजने का अनुरोध किया
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here