चीन ने भारत अमेरिका के बीच हुई 2+2 वार्ता का किया स्वागत, रक्षा सौदे पर साधी चुप्पी

0
51

जयपुर, भारत व अमेरिका के बीच हुई टू प्लस टू वार्ता का चीन ने स्वागत किया है। लेकिन दोनों देशों के बीच हुए कोमकासा करार को लेकर उन्होनें कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। इस करार में भारतीय सेना को महत्वपूर्ण और एन्क्रिप्टेड अमेरिकी रक्षा टेक्नॉलजी मिलेगी। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण व विदेश मत्री सुषमा स्वराज के साथ हुई अमेरिकी प्रतिनिधियों की बैठक में दोनों देशों ने ‘संचार, संगतता और सुरक्षा समझौते’ पर हस्ताक्षर किए। वहीं इस समझौते को लागू होने से भारत को अमेरिका से अत्याधुनिक सैन्य संचार उपकरण मिलेंगे।

साथ ही अमेरिका से समय समय पर महत्वपूर्ण सूचनाए भी मिल सकेगी। वार्ता को लेकर प्रतिक्रिया देने के सवाल पर चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, दोनों देशों के बीच टू प्लस टू वार्ता के बारे में हमने खबरे देखी है। चीन, अमेरिका और भारत के बीच द्विपक्षीय संबंधों का सामान्य विकास देखकर हम खुश हैं, इस समझौते को लकर हम उम्मीद करते है कि क्षेत्रीय शांति एवं स्थिरता में योगदान देने के लिए मिलकर काम करेंगे।

वहीं उन्होंने रक्षा सौदे पर बिना कुछ किए चुप्पी साध ली है भारत-प्रशांत क्षेत्र में समुद्री स्वतंत्रता को लेकर उन्होंने कहा कि ‘समुद्र में सुरक्षा नौवहन के बारे में हम अंतरराष्ट्रीय कानून में उल्लेखित कानूनी अधिकारों को कायम रखेंगे साथ ही हम यह उम्मीद करते हैं कि नौवहन स्वतंत्रता के लिए पक्ष वास्तविक कार्य करें।Image result for निर्मला सीतारमण जिम मैटिस

चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि 2+2 वार्ता में भारत और अमेरिका ने मिलकर एक सही निर्णय पर काम करने का फैसला लिया है। जो एक बेहतर प्रदर्शन है। बता दें की भारत व अमेरिका की टू प्लस टू वार्ता उस समय में हुई है जब चीन की सेना हिंद प्रशांत क्षेत्र में अपना जोर आजमा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here