माता पिता की इन वजह से बिगड़ते है बच्चे, जानिए

0
180

जयपुर, बच्चों के बिगडने का कारण गलत संगत, मोबाइल टीवी व इंटरनेट का मानते है पर क्या आपको पता है एक और वजह है जिसकी वजह से भी बच्चों में गलत आदते पड़ जाती है। और वह कारण है उनके पेरेंटस का व्यवहार जिसकी वजह से बच्चे गलत काम करने लगते है बच्चे बहुत मासूम होते है और इस उम्र में वह हर चीज को करके देखना चाहते है। ऐसे में कई बार बच्चों से गलतिया हो जाती है  तो ऐसे कई मां-बाप उनके साथ बहुत सख्ती से पेश आते हैं। जो बच्चों के दिमाग पर बुरा विपरीत असर डालता है। जो उनके दिमाग के विकास में बहुत बाधक होता है। इसलिए हम आपकों बता रहे है वो वजह जिनके कारण बच्चों पर पड़ता है गलत असर….Image result for बच्चों पर गुस्सा

ज्यादा गुस्सा करना

हमारे द्वारा गुस्सा करना भी बच्चों के स्वास्थ्य पर सही नहीं होता है। इसलिए बच्चों को ज्यादा नहीं डांटे। जब भी बच्चा कोई वह काम करे जिसके लिए मना किया गया है तो उसे डांटने के बजाए प्यार से समझाएं। बच्चे के  बदतमीजी करने पर तत्काल समय थोड़ी सख्ती दिखाकर बाद मे उसे गलती का एहसास करवाए और प्यार से समझाएं। वहीं किसी आदत को छुड़वाने के लिए उसकी मनपसंद चीज का लालच दे। याद रखे ज्यादा डांटने पर बच्चे गुस्सेल प्रवृति के हो जाते है।Image result for बच्चों पर गुस्सा

नहीं करे मारपीट

बच्चों के गलती करने पर उनके साथ मारपीट नहीं करे। क्योंकि व्यक्ति वहीं काम करता है जो उसका दिमाग कहता है। इसलिए इसमे उनका कसूर नहीं होता है। गलती करने पर मारपीट करते है तो हो सकता है अगली गलती पर आपका बच्चा आपसे झूठ बोलने लगे। इसलिए कभी भी मारपीट नहीं करे।Image result for पति पत्नी झगड़ा

घर के झगड़ो से रखे दूर

घर में होने वाले झगड़े, बच्चों के दिमाग पर गलत असर डालते हैं। ऐसे माहौल में बच्चे जल्दी वयस्क हो जाते हैं। परिवार में हमेसा लड़ते झगड़ते देखने, वह झगड़ालू बन जाते हैं। समय से पहले वयस्क होनें से बच्चों की सोच की परिपक्वता के कारण वह चीजों को आधे-अधूरे ढंग से समझने लगते है। जिसका आगे चलकर नकारात्मक असर होता है।Image result for बच्चों को समझाना

नहीं दे हमेशा उपदेश

अक्सर हम देखते है कि कुछ परिजन लगातार बच्चों को उपदेश देते रहते है। और हर छोटी-छोटी बात पर टोकते रहते है। अगर आप कभी कभार उनकों डाटते है तो उन्हें अपनी गलती का एहसास होता हैं। लेकिन अगर यह आपका रोजाना का काम है तो वह आपको इग्नोर करने लगते हैं। उनको गलती करने पर प्यार से समझाए जिससे वह उसे दोहरान से बचे। साथ ही लगातार इस तरह का व्यवाहर करने से बच्चे चिड़चिड़े हो जाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here