चीनी वैज्ञानिको ने बदला बंदर का दिमाग -शोध

इस शोध का मकसद यह परीक्षण करना था कि अगर बंदर में इंसानी दिमाग की खुबिया विकसित किया जाये तो बंदर के व्यवहार में कैसा बदलाव होता है.

0
21

दुनिया में तमाम तरह के शोध होते है ,जिनके नतीजे कभी -कभी तो कल्पना से भी परे होते है। हाल ही में चीन ने भी ऐसा ही एक हैरतअंगेज शोध किया है। यह शोध किसी दवा या किसी प्रोडक्ट के ऊपर नहीं बल्कि बंदरो पर किया गया है। बंदर पर किये इस शोध का मकसद यह परीक्षण करना था कि अगर बंदर में इंसानी दिमाग की खुबिया विकसित किया जाये तो बंदर के व्यवहार में कैसा बदलाव होता है. इसके लिए वैज्ञानिकों ने दिमागी विकास से जुड़े एक ह्यूमन जीन- MCPHI को एक वारयस के माध्यम से बंदर के एब्रियो में डाला था। चीनी वैज्ञानिको के मुताबिक 11 बंदरों में एचसीपीएच-1 जीन ट्रांसप्लांट कर यह जीन तैयार किया गया है। शोध के नतीजों पर बात करते हुए वैज्ञानिको ने कहा कि अब इन बंदरो का दिमाग इंसान के मस्तिष्क के जैसा हो गया है। बताया जा रहा है कि इन बंदरों ने शॉर्ट टर्म मेमोरी में अच्छा प्रदर्शन किया है.अगर वाकई यह वाकया सच साबित होता है तो यह चीन के लिए एक महान वैज्ञानिक उपलब्धि होगी। बता दे कि बंदरो के दिमाग का आकार अब भी नहीं बढ़ा है लेकिन जंगली बंदरों की तुलना में किसी बात पर अपनी प्रतिक्रिया देने में बंदर फुर्तीले साबित हुए है। बता दे कि बंदर अन्य जानवरो की तुलना में दिमागी तौर पर अधिक सक्षम होते है और उनमे संवेदनशीलता का स्तर इंसानो से भी अधिक होता है. हरियाणा के वायरल वीडियो में भी कुछ इसी तरह एक बंदर की संवेदनशीलता देखने को मिल रही है। यह बंदर घर से बाहर आये एक बच्चे को किडनैप कर लेता है ,फिर उसके साथ खेलता है. इसके अलावा वीडियो में बंदर बच्चे के बाल भी साफ कर रहा है। जब घरवाले बंदर से बच्चे को मांगते है तब बंदर भावुक होकर बच्चे को सीने से लगता दिख रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here