छत्तीसगढ़ में ग्रामीणों में खौफ फैलाने नक्सली कर रहे हत्या : आईजी

0
257

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों पर पुलिस का दबाव बढ़ता जा रहा है, जिसे दबाकर अपना शासन चलाने की जिद में नक्सली ग्रामीणों की हत्या कर रहे हैं। ये बात आईजी विवेकानंद सिन्हा ने बुधवार को जारी एक बयान में कही।

उन्होंने कहा कि उप पुलिस महानिरीक्षक कांकेर रेंज रतन लाल डांगी, पुलिस अधीक्षक नारायणपुर जितेन्द्र शुक्ल के निर्देशन में पुलिस पार्टी के चल रहे अभियान से नक्सलियों में दबाव बना है, जिसके कारण नक्सली अपना अस्तित्व बचाए रखने के लिए निर्दोष ग्रामीणों की नृशंस हत्या, बेरहमी से पिटाई और परिवार सहित गांव से बेदखल करने की घटना को अंजाम दिया जा रहा है।

जिला नारायणपुर के ग्राम कोस्ताड़ी थाना ओरछा में नागरिक मनोज कोर्राम निवासी कोस्ताड़ी की नक्सलियों ने नृशंस हत्या कर दी। इसी प्रकार नक्सलियों ने क्षेत्र में अपना अस्तित्व बनाए रखने और दहशत फैलाने आमनागरिकों को उनकी सहायता नहीं करने पर परिवार सहित गांव से भगाने की मामला प्रकाश में आया है।

नक्सलियों ने अपने आप को जल, जंगल, जमीन और सीधे-सादे आदिवासी ग्रामीणों का हितैषी कहकर उनसे अपना स्वार्थ सिद्ध करते हैं, यदि कोई ग्रामीण अथवा मजबूर आदिवासी नौकरी, अच्छी शिक्षा प्राप्त करने, शासकीय योजनाओं का लाभ लेने नारायणपुर आता है या किसी शासकीय अधिकारी या पुलिस अधिकारियों से बात करता है, तो नक्सली उन पर मुखबिरी का आरोप लगाकर ग्रामीणों की नृशंस हत्या कर देते हें। उन्हें गांव से भगा दिया जा रहा है।

आईजी ने कहा कि क्षेत्र में पुलिस पार्टी लगातार नक्सल विरोधी अभियान चला रही है, जिससे नक्सली खासा दबाव में है। ग्रामवासी नक्सलियों के खोखली विचार-धारा को समझ चुके हैं और ग्रामीण कहीं न कहीं खुली व दबी जुबान से माओवादी रीति-नीति का विरोध कर रहे हैं। इन्हीं सब वजह से नक्सली बौखलाकर निर्दोष ग्रामीणों को बेरहमी से पीटाई करते हैं व नृशंस हत्या कर देते हैं या गांव से भगा देते हैं। ताकि उनका क्षेत्र में दहशत कायम रहे और ग्रामवासियों एवं आसपास के क्षेत्र में उनके खौफ का साम्राज्य स्थापित हो परंतु ग्रामीणों इसके उलट इन घटनाओं ने उनके मन में माओवादी नक्सलियों के प्रति आक्रोश एवं असंतोष भर दिया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleजॉब में आ रही परेशानी से जॉब जाने की नौबत आ गई है तो जरुर आजमाएं इन उपायों को
Next articleभाजपा 38वें स्थापना दिवस पर 2019 अभियान की शुरुआत करेगी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here